रिकॉर्ड तो बनते ही टूटने के लिए हैं, पर इस गेंदबाज का 50 साल पुराना रिकॉर्ड आज भी है कायम

रिकॉर्ड तो बनते ही टूटने के लिए हैं, पर इस गेंदबाज का 50 साल पुराना रिकॉर्ड आज भी है कायम

By: Aryan Paul
January 12, 14:01
0
New Delhi: रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिए हैं। और खेलों की दुनिया में रोज नए रिकॉर्ड बनते-टूटते ही रहते हैं। पर क्रिेकेट के मैदान पर 5 दशक पुराना एक ऐसा भी रिकॉर्ड है, जो आजतक नहीं टूट पाया है।

और यह रिकॉर्ड एक भारतीय गेंदबाज के नाम पर है। जिनका नाम था बापू नाडकर्णी। बाएं हाथ से स्पिन गेंदबाजी और बल्‍लेबाजी करने वाले बापू ने भारतीय टीम के लिए 41 टेस्‍ट खेले। इसमें उन्‍होंने 25.70 के औसत से 1414 रन बनाए जिसमें एक शतक और सात अर्धशतक जमाए।

बापू

 गेंदबाजी में उन्‍होंने 29.07 के औसत से 88 विकेट हासिल किए। पारी में 5 या इससे अधिक विकेट उन्‍होंने चार बार लिए जबकि एक बार वे मैच में 10 या इससे अधिक विकेट लेने में सफल रहे। नाडकर्णी ने अपना पहला टेस्‍ट दिसंबर 1955 में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ दिल्‍ली में खेला था।

बापू

इसी टीम के खिलाफ वर्ष 1968 में उन्‍होंने अपना आखिरी टेस्‍ट खेलाजिन्होंने भारत की तरफ से 41 टेस्‍ट मैच खेले। उनकी गेंदों की लाइन और लेंथ इतनी सटीक होती थी कि बल्‍लेबाज के लिए उनके खिलाफ रन बनाना बेहद मुश्किल होता था। अपनी इस किफायती गेंदबाजी का परिचय उन्‍होंने इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट मैच के दौरान दिया था।

IND VS SA: जोहांसबर्ग में इंडिया हाउस पहुंची विराट कोहली ब्रिगेड, देखें शानदार तस्‍वीरें...

बापू

साल 1963-64 में इंग्‍लैंड के खिलाफ तत्कालीन मद्रास टेस्ट में लगातार 21 ओवर मेडन डाले थे। इंग्‍लैंड की पहली पारी के दौरान उन्होंने 32 ओवर की गेंदबाजी की थी। इसमें 27 मेडन थे। 32 ओवर की गेंदबाजी में उन्‍होंने केवल पांच रन दिए थे, पांच ओवरों में भी एक-एक रन बना था। यह मैच साल 1964 में 10 से 15 जनवरी तक खेला गया था।

फिर आगे बढ़ी जॉन अब्राहम की फिल्म ‘परमाणु’की रिलीज, अभिनेता दिखे परेशान

बापू

इसके अलावा घरेलू क्रिकेट में भी वे काफी सफल रहे। उन्‍होंने 191 प्रथम श्रेणी मैचों में 40.36 के प्रभावी औसत से 8880 रन बनाने के अलावा 21.37 के औसत से 500 विकेट लिए। घरेलू क्रिकेट में 17 रन देकर छह विकेट उनका सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन रहा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।