मुस्लिम समाज की बड़ी पहल, निकाह के वक्त ही दूल्हा-दुल्हन करेंगे 3 तलाक ना देने का वादा

मुस्लिम समाज की बड़ी पहल, निकाह के वक्त ही दूल्हा-दुल्हन करेंगे 3 तलाक ना देने का वादा

By: Rohit Solanki
September 12, 16:09
0
....

 New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने जिस दिन से 3 तलाक को संविधान के खिलाफ बताया उसी दिन से देश में एक नई चर्चा ने जन्म ले लिया है। चर्चा ये थी कि क्या मुसलमान सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का सम्मान करेंगे? इस पर तमाम धर्मगुरुओं के बीच चैनलों पर घंटों लंबी बहस भी देखने को मिली, लेकिन आखिरकार मुस्लिम समाज ने 3 तलाक को खत्म करने की शुरुआत कर दी है।

दरअसल, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुस्लिमों के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए बड़ा फैसला किया है। इसके तहत शादी या यूं कहें निकाह के वक्त ही मौलवी-काजी और धर्मगुरुओं की मौजूदगी में दूल्हा और दुल्हन इस बात पर सहमति बनाएंगे कि रिश्ते को खत्म करने के लिए 3 तलाक का सहारा नहीं लेंगे।

 भोपाल में कल ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की एक बैठक हुई जिसमें यह फैसला लिया गया है। बोर्ड ने कहा है कि हम सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हैं और 3 तलाक के साथ-साथ शरीयत पर भी लोगों को जागरुक करने की जिम्मेदारी उठाने को पूरी तरह तैयार है। बोर्ड ने कहा कि हमने मुस्लिम समाज को जागरुक करने के लिए एक कमेटी बनाई है, जो पूरे समाज को जागरुक करेगा।

बोर्ड के एक सदस्य ने बताया कि तीन तलाक की प्रथा सुन्नी मुसलमानों के हनफी पंथ में प्रचलित है। हम शुरू से मानते हैं कि 3 तलाक रिश्ता खत्म करने का बेहतर तरीका नहीं है, इसलिए अब लोगों की सोच बदलना हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि हम इस चुनौती को स्वीकार करेंगे और मुस्लिम समाज के अच्छे भविष्य के लिए इस प्रथा को खत्म करेंगे।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।