भूटान खुलकर आया भारत के साथ: राजा बोले- चीन जैसे धोखेबाज नहीं.. ईमानदार भारत का साथ चाहिए

भूटान खुलकर आया भारत के साथ: राजा बोले- चीन जैसे धोखेबाज नहीं.. ईमानदार भारत का साथ चाहिए

By: Ruby Sarta
August 12, 18:08
0
NEW DELHI:

 सरहद पर चीन और भारत में तनाव के बीच भूटान भी चर्चा में है। जिस डोकलाम सीमा पर विवाद है वह भूटान और चीन के बीच है। चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने आरोप लगाया है कि भारत अपने हितों को साधने के लिए भूटान का इस्तेमाल कर रहा है। लेकिन भूटान भारत के साथ खड़ा है। 

चीनी मीडिया का कहना है कि सभी का समाधान रॉयल भूटान आर्मी और चीनी आर्मी के बीच होता रहा है। इसमें कभी भारतीय सैनिकों की ज़रूरत नहीं पड़ी है। अख़बार ने आगे लिखा है, ''इसमें कोई शक नहीं है कि भूटान में भारतीय सैनिकों की मौजूदगी है और भूटानी आर्मी को भारत ट्रेनिंग और फंड मुहैया कराता है। भारत ऐसा भूटान की सुरक्षा के लिए नहीं करता है बल्कि ऐसा वह अपनी सुरक्षा के लिए करता है। यह भारत का चीन के ख़िलाफ़ सामरिक योजना के तहत है।''

 हालांकि डोकलाम पर चीन और भारत के बीच तनाव को लेकर भूटानी मीडिया उस तरह से आक्रामक नहीं है। भूटान के सरकारी अख़बार क्यून्सेल ने डोकलाम के पास चीन द्वारा सड़क बनाए जाने पर चिंता जाहिर की है। भूटान ने कहा है कि हमे नहीं चाहते की चीन वहां सड़क बनाए। हम भारत के साथ और हमेशा रहेंगे। इसके साथ ही अमेरिका ने कहा है कि डोकलाम में जिस तरह चीन बचपने का भारत ने जवाब दिया है उससे साबित हो चुका है कि भारत एक अनुभवी शक्तिशाली देश है।

एक भूटानी अख़बार ने लिखा है, ''भूटान और चीन के बीच जिन चार इलाक़ों को लेकर विवाद हैं उनमें डोकलाम एक है।'' 29 जून को भूटान के विेदेश मंत्रालय ने चीन से कहा था कि उसे यथास्थिति का पालन करना चाहिए। भूटान ने कहा था कि चीन डोकलाम के पास कोई निर्माण करता है तो यह दोनों देशों के बीच सीमा समझौते का उल्लंघन होगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments