प्रॉपर्टी खरीद रखी है तो हो जाए सावधान !

प्रॉपर्टी खरीद रखी है तो हो जाए सावधान !

By: Ajay Shekhawat
December 28, 04:12
0
LIVE NEWS: 8 नवंबर को मोदी सरकार द्वारा पांच सौ और एक हजार रूपए के नोटबंदी से कैश की किल्लत बनी हुई है और लोग परेशानी झुझ रहे हैं। लेकिन इस फैसले से प्रॉपर्टी खरीदने में काला धन इस्तेमाल करने वालों के बुरे दिन जल्दी ही आने वाले हैं।

अगर आपने घर या प्रॉपर्टी खरीदी है तो तैयार हो जाइए सरकार आपसे ये सवाल करने वाली है कि आपके पास इसके लिए पैसा कहां से आया? सिर्फ खरीदने वाले ही नहीं बल्कि बेचने वाले से भी पूछा जाएगा उसने ये घर कब खरीदा था और इसके लिए उसके पास पैसा कहां से आया था?

रियल एस्टेट है काले धन गढ़

बता दें कि इनकम टैक्स की रिपोर्ट के अनुसार भारत में रियल एस्टेट में सबसे ज्यादा कालाधन छिपा हुआ है। यहां काला धन खपाने के कई आसन तरीके हैं। लोग प्रॉपर्टी के दाम कम बताते हैं जिससे स्टांप ड्यूटी बचती है और बाकी कैश दे देते हैं। कई लोग टैक्स डिपार्टमेंट की नजरों से बचने के लिए अपने करीबी रिश्तेदारों, नौकरों और ड्राइवरों के नाम से प्रॉपट्री खरीदते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि महंगी प्रॉपर्टी का लगभग 30 फीसदी बेनामी ट्रांजेक्शन हो सकता है। वहीं जमीन के मामले में यह 30 फीसदी से भी अधिक बेनामी ट्रांजेक्शन हो सकता है। 

इनकम टैक्स की तीखी नजर

नया इनकम टैक्स कानून आने के बाद अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट घर खरीदने वालों को नोटिस भेज कर पैसे का सोर्स पूछने वाला है, हालांकि डिपार्टमेंट पहले भी ऐसा करता रहा था। नोटबंदी के बाद इनकम टैक्स बेनामी प्रॉपर्टी पर शिकंजा कसने के लिए घर बेचने और खरीदने वाले दोनों से ही पूछताछ करने की तैयारी में है।

असल में बेनामी प्रॉपर्टी उसे कहा जाता है जिसे खरीदे जाते वक्त उस आदमी के नाम पर लेन-देन नहीं होता जिसने उसके लिए पैसे चुकाए हैं। इसका सीधा सा मतलब ये हुआ कि प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन किसी और नाम पर होता है और पैसे का भुगतान कोई और करता है। कई लोग अपने नौकरों, दोस्तों के नाम पर भी ऐसी प्रॉपर्टी खरीदते हैं। ऐसी प्रॉपर्टी जिस व्यक्ति के नाम खरीदी जाती है, उसे बेनामदार कहा जाता है।

 .

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments