बिहार में 31 जुलाई तक लॉकडाउन की तैयारी- पटना में कोरोना संक्रमण के हालात बेकाबू, भय का माहौल

New Delhi : कोरोना वायरस संक्रमण ने बिहार को घेर लिया है। बहुत तेजी से कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इसको देखते हुये बिहार की नीतीश सरकार 31 जुलाई तक पूरे बिहार में लॉकडाउन का ऐलान कर सकती है। बिहार में एकबार फिर से सख्त लॉकडाउन लागू किया जा सकता है। लॉकडाउन का ऐलान मंगलवार को किया जा सकता है। फिलहाल बिहार के दर्जन भर जिलों में लॉकडाउन लागू है। वैसे बिहार में रैपिड एन्टीजेन टेस्ट किट से संक्रमितों की जांच विभिन्न जिलों में 13 जुलाई से शुरू हो गयी है।

विभिन्न जिलों में 40 हजार से ज्यादा किट पहुंच गये हैं। इस किट से महज आधे घंटे में संक्रमण की जांच हो जाती है। अभी तक बिहार में प्रतिदिन 9 हजार से अधिक लोगों की जांच की जा रही है। पटना की राजेंद्रनगर, कंकड़बाग सब्जी मंडी में भीड़-भाड़ लगाने, मास्क/सैनिटाइजर का प्रयोग नहीं करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने को लेकर डीएम कुमार रवि ने दोनों सब्जी मंडियों को 3 दिनों तक बंद करने का निर्देश दिया है।
बिहार के ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार कोरोना वायरस संक्रमित पाये गये हैं। सोमवार को जांच रिपोर्ट में शैलेश कुमार के संक्रमित पाये जाने के बाद तत्काल इलाज की प्रक्रिया शुरू कर दी गई तथा वह पटना में अपने सरकारी आवास में ही पृथक-वास में रह रहे हैं। मंत्री के कोरोना वायरस संक्रमित पाये जाने के बाद अब उनके परिवार और कर्मचारियों की भी जांच करायी जा रही है। 28 जून को बिहार के पिछड़ा एवं अति पिछड़ा कल्याण मंत्री विनोद कुमार सिंह और उनकी पत्नी में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी।

यही नहीं केवल पटना में हर दिन औसतन दो सौ नये संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। आज एक निजी हॉस्पिटल के 28 कर्मचारियों में कोरोना की पुष्टि हुई। पटना के जानेमाने फीजिशयन के भी कोरोना पॉजेटिव पाये जाने के बाद पटना में हालात बेहद चिंताजनक होते जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

forty four − thirty four =