PM Modi का ‘वर्क फ्रॉम होम : घर के एक हिस्से में लैपटॉप-मोबाइल पर पूरा दिन काम

New Delhi : PM Narendra Modi ने लोगों से खुद को और अपने परिवारजनों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए घर के अंदररहने की अपील की थी। वह खुद भी इस सलाह पर अमल कर रहे हैं और पिछले कुछ दिनों से अपने आवास में ही हैं। PM Modi साउथब्लॉक स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय नहीं जा रहे हैं। इसकी जगह वह अपने आवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठकें कर रहे हैं औरहालात पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने राष्ट्र के नाम 20 और 24 मार्च को अपने दोनों संबोधन प्रधानमंत्री आवास से ही दिए।

Economic Times की रिपोर्ट के मुताबिक सचिव पी के मिश्रा, कैबिनेट सेक्रटरी राजीव गौबा, स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन और इंडियनकाउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के डायरेक्टर बलराम भार्गव जैसे वरिष्ठ अधिकारी रोज प्रधानमंत्री के साथ उनके आवास परबैठक करते हैं और उन्हें रोजाना की गतिविधियों के बारे में बताते हैं।

बीमारी से ठीक हो चुके और अस्पतालों से छोड़े जा चुके लोगों के मामलों पर प्रधानमंत्री की करीबी निगाह है। मंगलवार सुबह तक ऐसे37 मामले थे। प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से इस आंकड़े के बारे अधिक बात करने को कहा है, जिससे लोगों में यह भरोसा जाए कि भारतके पास कोराना वायरस के मामलों को ठीक करने की क्षमता है। अधिकारी ने बताया, ‘इन बैठकों और वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान भीप्रधानमंत्री और अधिकारी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। कई राज्यों में लागू ट्रैवल बैन और अधिक लोगों को PM आवास परबुलाने से बचने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का विकल्प चुना गया है।

प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कॉर्पोरेट जगत के प्रतिनिधियों, फार्मा इंडस्ट्री, इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया और डॉक्टर्स औरमेडिकल असोसिएशंस के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है। आने वाले दिनों में ऐसी और बैठकें होने वाली हैं। एक अधिकारी ने बताया, ‘इन स्टेकहोल्डर्स से मिलने वाली जानकारियों को खुद पीएम मोदी नोट कर रहे हैं।प्रधानमंत्री बुधवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसीके लोगों को भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करेंगे।

अमेरिका और यूके में क्रमशः डॉनल्ड ट्रंप और बोरिस जॉनसन रोजाना प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं, जिसमें उनसे सवाल भी पूछे जा रहे हैं।हालांकि मोदी ने यह विकल्प नहीं चुना है। इसकी जगह वह लोगों से सीधे जुड़ने के लिए दो बार राष्ट्र को संबोधित कर चुके हैं, जिसे वहअधिक प्रभावी तरीके के रूप में देखते हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘प्रधानमंत्री ने 20 मार्च को राष्ट्र के नाम संबोधन में जनताकर्फ्यू का ऐलान किया था। इसका जिस तरह से लोगों ने पालन किया, वह इस माध्यम की सफलता को दिखाता है।सरकार की ओरसे जॉइंट सेक्रटरी (हेल्थ) लव अग्रवाल और ICMR के डायरेक्टर बलराम भार्गव नियमित तौर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

84 + = eighty seven