ममता की पुंगी बजाने : PM मोदी संभालेंगे बंगाल चुनाव की कमान, शाह घर लेकर रहेंगे

New Delhi : PM Narendra Modi ने BJP के लिएमिशन पश्चिम बंगालकी कमान अपने हाथों में ले ली है. वे लगातार बंगाल केसांसदों से फ़ीडबैक ले रहे हैं. वहीं Home Minister Amit Shah पूरे मिशन की मॉनिटरिंग करेंगे. शाह के रहने के लिये कोलकाता मेंकोई अच्छा घर खोजा जा रहा है.

राज्य में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाला है. इसलिए PM Modi खुद ही राज्य के सभी पार्टी सांसदों से मिल कर तैयारियों कोअंतिम रूप दे रहे हैं. Budget session के दौरान PM Modi पार्टी के सांसदों से एकएक कर दिल्ली के संसद भवन में अपने कार्यालय मेंमुलाकात कर रहे हैं. हर सांसद से 15-20 मिनट मुलाकात होती है. इसमें PM Modi राज्य की राजनीतिक परिस्थिति के बारे में फीडबैकलेते हैं.

पश्चिम बंगाल से बीजेपी के 18 सांसद हैं. PM Modi इनसे ये भी पूछ रहे हैं कि केंद्र सरकार की योजनाओं का सीधा लाभ राज्य कीजनता को पहुंच पा रहा है या नहीं? वे राज्य की ममता बनर्जी सरकार के प्रदर्शन के बारे में भी इन सांसदों से फीडबैक ले रहे हैं.पीएममोदी की दिलचस्पी इस बात में भी है कि राज्य में कौन से मुद्दे हावी हैं.

BJP बंगाल को लेकर बेहद सक्रिय है. पार्टी को अपने लगातार सुधरते प्रदर्शन से काफी उम्मीदें है. गृह मंत्री अमित शाह भी कह चुके हैंकि बीजेपी दोतिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाएगी. एक मार्च को पश्चिम बंगाल में अमित शाह की रैली थी. इस दौरान उन्होंने कहा, “लोकसभा चुनाव से पहले ममता दीदी कहती थीं कि हमारे उम्मीदवार अपनी जमानत राशि खो देंगे. लेकिन पहली बार हमने राज्य की42 में से 18 सीटें जीतीं. ममता दीदी आंकड़े देख सकती हैं. आने वाले विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिलेगा. दोतिहाईबहुमत और सरकार बनाएगी.”

शाह ने कहा कि उन्होंने अपने सार्वजनिक जीवन में कई राजनीतिक बदलाव देखे हैं. शहीद मीनार मैदान में विशाल जनसभा को संबोधितकरते हुए अमित शाह ने कहा था, “2014 में बीजेपी को केवल 87 लाख वोट मिले. 2019 में आपने अपना प्यार स्नेह बरसाया और हमेंसमर्थन दिया. हमें 2.30 करोड़ वोट मिले. मुझे भरोसा है कि हमारे मार्च को नहीं रोका जा सकता.” अपने भाषण की शुरुआत में माहौलको उत्साहित करते हुए शाह नेभारत माता की जयका नारा लगाया था और भीड़ से इसे जोरशोर से दोहराने के लिए कहा था, जिससेयह उन लोगों के कान तक पहुंचे, जो नए नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं. उन्होंने कहा था, “आप को जोर से आवाज लगानीचाहिए. इस तरह से आप ममता दीदी की सरकार को सत्ता से बेदखल कैसे कर सकते हैं?”

इसके बाद उन्होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) का जिक्र किया था और कहा था कि इस मुद्दे ने बंगाल में बहुत ज्यादाराजनीतिक कटुता पैदा की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty five − = seventeen