ये हैं वो महंत जो रोज रामलला को खिलाते-नहलाते हैं, सैलरी मिलती है सिर्फ 8,480 रुपये महीना

ये हैं वो महंत जो रोज रामलला को खिलाते-नहलाते हैं, सैलरी मिलती है सिर्फ 8,480 रुपये महीना

By: Aryan Paul
December 06, 13:12
0
New Delhi: भगवान श्रीराम को खाने-खिलाने और उनका ध्यान रखने वाले की सैलरी है, 8,480 रुपये महीना। जो सरकार द्वारा नियुक्त किए गए वरिष्ठ पुजारी सत्येंद्र दास को मिलती है। और इतने रुपये में वो पुजारी संतुष्ट भी हैं।

जी हां। वो सत्येंद्र दास ही हैं, जो भगवान राम को नहलाते हैं, खाना खिलाते हैं, कपड़े पहनाते हैं। वो प्यार से भगवान राम कहते हैं राम लला।

महंत सत्येंद्र दास

उनका कहना है कि उनकी संपत्ति संस्कृति और मंदिर सेवा ही है। साथ ही बत दें कि गर्भ गृह राम जन्मभूमि का वह स्थान है, जिसके बारे में हिंदू परंपरा में मान्यता है कि यहीं पर भगवान राम का जन्म हुआ था। 

महंत दास

बाबरी विध्वंस पर बोली उमा भारती, जो किया खुल्लम खुल्ला किया... कोर्ट ने माना राम मंदिर वहीं है

साथ ही यह भी बता दें कि गर्भ गृह में सत्येंद्र दास के अलावा किसी को भी जाने की इजाजत नहीं है। सत्येंद्र दास बताते हैं कि जहां भगवान का जन्म हुआ, वहां पर प्रभु की सेवा करना वास्तव में एक ऐसा विशेषाधिकार है, जहां पर राष्ट्रपति और यहां तक की प्रधानमंत्री भी नहीं जा सकते हैं। वो कहते हैं कि यह सिर्फ प्रभु के आशीर्वाद से ही संभव हो सका है। 

महंत सत्येंद्र दास

श्रापित है भगवान श्रीकृष्ण का गोवर्धन पर्वत, कुछ सालों में हो जाएगा गायब

वे बताते हैं कि भगवान राम के दर्शन के लिए प्रतिदिन तकरीबन 10 हजार से ज्यादा लोग आते हैं। 25 वर्षों से तपस्वी का जीवन जी रहे विद्वानों का कहना है कि शहर के प्रसिद्ध अखाड़ा संत लगातार टीवी चैनल्स और राजनीतिक-धार्मिक कार्यक्रमों में नजर आते हैं, उनके द्वारा प्रसिद्धि का लिया जाने वाला आनंद धीरे-धीरे खत्म होता नजर रहा है। 
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।