अस्पताल के बाथरुम में कमोड के अंदर पड़ा मिला पांच महीने की बच्ची का भ्रूण,जांच में जुटी पुलिस

अस्पताल के बाथरुम में कमोड के अंदर पड़ा मिला पांच महीने की बच्ची का भ्रूण,जांच में जुटी पुलिस

By: Shalu Sneha
October 13, 13:10
0
..

New Delhi: हाल ही में बेंगलुरु के सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज अस्पताल के परिसर में दो बच्चियों के भ्रूण पाए गए है। उनमें से एक भ्रूण को आपातकालीन वार्ड के पास शौचालय में एक कमोड के अंदर मिला था, जबकि दूसरा भ्रूण अस्पताल के स्वच्छता टैंक में पाया गया था। मेडिकल जांच में पता चला है कि ये दोनों भ्रूण 5 महीने के थे। वहीं इस घटना के बाद कोरमंगलला पुलिस ने आईपीसी धारा 318 के तहत दो केस दर्ज कर सभी गर्भवती महिलाओं की जानकारी मांगी है। खासकर उन महिलाओं के जिन्होनें भ्रूण मिलने वाले दिन यानि कि 1 से 5 अक्टूबर के बीच अस्पताल का दौरा किया था। डॉक्टर के अनुसार इन दोनों भ्रूण की मृत्यु 48 घंटे पहले ही हो चुकी थी।

बता दें कि डॉ लेविन का कहना है कि अस्पताल में गर्भपात (एमटीपी) की अनुमति नहीं है। "यह जीवन के लिए हमारे सम्मान की वजह से है। यहां पर किसी डॉक्टर को एमटीपी करने की अनुमति नहीं है। अगर गर्भावस्था में कोई समस्या है, तो मामले को अन्य अस्पतालों में भेजा जाता है। इसके अलावा, अस्पताल में कोई ग़ैर-जिम्मेदार हानि नहीं हुई जब ये घटना हुई थीं। साथ ही पुलिस को इस अवधि के दौरान आई महिलाओं की लिस्ट दे दी गई है। सात ही उन्होनें बोला कि अस्पताल में हर रोज अपने ओपीडी में 3,000 से अधिक मरीज आते हैं। किसी भी समय में 1350 मरीजों का दौरा होता है।

हर मरीज के साथ 4 परिजनों को रुकने दिया जाता है। जिससे बाहर के किसी भी आदमी को प्रवेश करने से रोकना मुश्किल है। अस्पताल के प्राधिकरण का कहना है कि तहां पर भ्रूण मिले हैं वो सार्वजनिक जगह है जहां कोई भी प्रवेश कर सकता है। जिसके कारण कोई भी बाहर का भी व्यक्ति आकर ये काम कर सकता है।  

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।