सुप्रीम कोर्ट में 164 साल पुराने राम जन्मभूमि विवाद मामले पर अहम सुनवाई आज,आ सकता है बड़ा फैसला

सुप्रीम कोर्ट में 164 साल पुराने राम जन्मभूमि विवाद मामले पर अहम सुनवाई आज,आ सकता है बड़ा फैसला

By: Naina Srivastava
December 05, 07:12
0
New Delhi: सुप्रीम कोर्ट आज 164 साल पुराने रामजन्मभूमि मामले की सुनवाई करेगा।  चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की बेंच मामले की सुनवाई करेगी। हजारों पन्नों के अदालती दस्तावेजों का अंग्रेजी में अनुवाद पूरा हुआ।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट केस से जुड़े अलग-अलग भाषाओं के ट्रांसलेट किए गए 9000 पन्नों को देखेगा। जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुआई वाली बेंच मामले की नियमित सुनवाई करेगी। 6 दिसंबर को विवादित ढांचा ढहाए जाने के 25 साल भी पूरे हो रहे हैं। 

 इसे भी पढ़ें- धर्मसंसद में मोहन भागवत बोले- राम जन्मभूमि पर सिर्फ राम मंदिर बनेगा, जल्द लहराएगा भगवा


5 दिसंबर दोपहर 3 जजों की स्पेशल बेंच सुनवाई शुरू करेगी। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के अलावा बेंच में जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अब्दुल नजीर हैं। सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल और राजीव धवन होंगे। वहीं रामलला का पक्ष हरीश साल्वे रखेंगे। कोर्ट देखेगा कि डॉक्युमेंट्स का ट्रांसलेशन पूरा हुआ है या नहीं।

साल भर से पिता कर रहा मासूम का बलात्कार, माँ की शिकायत पर गिरफ़्तार

ट्रांसलेशन नहीं होने पर पेच फंस सकता है, लेकिन अदालत कह चुकी है कि अब सुनवाई नहीं टलेगी। 5 दिसंबर से दलीलें सुनी जाएंगी। सबसे पहले ऑरिजनल टाइटल सूट दाखिल करने वाले दलीलें रखेंगे। फिर बाकी अर्जियों पर बात होगी। 

जल्द दिखेगा संसद का 90 साल पुराना रूप, रोम की चर्च को चमकाने वाली टेक्निक का हो रहा इस्तेमाल

गौरतलब है कि 11 अगस्त को 3 जजों की स्पेशल बेंच ने इस मामले की सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट में 7 साल बाद अयोध्या मामले की सुनवाई हुई थी। कोर्ट ने कहा था कि 7 भाषा वाले दस्तावेज का पहले का अनुवाद किया जाए। कोर्ट से साथ ही कहा कि वह इस मामले में आगे कोई तारीख नहीं देगा। उल्लेखनीय है कि इस मामले से जुड़े 9,000 पन्नों के दस्तावेज और 90,000 पन्नों में दर्ज गवाहियां पाली, फारसी, संस्कृत, अरबी सहित विभिन्न भाषाओं में हैं, जिसपर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कोर्ट से इन दस्तावेजों को अनुवाद कराने की मांग की थी। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।