चीन को पॉलिस्टर कारोबार में टक्कर देगा भारत, मुकेश अंबानी की कंपनी ने लॉन्च किया रेलॉन ब्रांड

चीन को पॉलिस्टर कारोबार में टक्कर देगा भारत, मुकेश अंबानी की कंपनी ने लॉन्च किया रेलॉन ब्रांड

By: Aryan Paul
November 13, 13:11
0
New Delhi: RIL भी POLISTER कारोबार में उतरने की तैयारी कर रही है। कंपनी ने हाल ही में नया ब्रांड रेलॉन शुरू किया है। कंपनी का मकसद इस कारोबार में CHINA को कड़ी टक्कर देना है।

दरअसल पूरी दुनिया में बाकी प्रोडक्ट की तरह चीन का पॉलिस्टर कारोबार में भी दबदबा है। इसलिए मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज पॉलिएस्टर कारोबार में अपनी पैठ बढ़ाने जा रही है। कंपनी ने कपड़ो की सह-ब्रांडिंग में कदम रख रही है। कंपनी की पॉलिसी बिजनेस टू बिजनेस टू कंज्यूमर की ओर है। जिसके जरिए वो चीन को पछाड़कर नंबर वन बनना चाहती है। जानकारी के लिए बता दें कि भारत में कुल 45 लाख टन पॉलिएस्टर का उत्पादन होता है। 


बता दें कि दुनियाभर में करीब 7 करोड़ टन पॉलिएस्टर का उत्पादन होता है, जिसमें अकेला चीन ही 4.5 करोड़ टन उत्पादन करता है। जबकि भारत में रिलायंस की भागीदारी इसमें करीब 20 लाख टन की है। कंपनी इसमें सालाना 5 प्रतिशत वृद्धि की उम्मीद कर रही है। दरअसल रेलॉन विशेष परिधान का पोर्टफोलियो है। इसके लिए रिलायंस ने अमेरिका के वीएफ कॉर्पोरेशन के साथ भी समझौता किया है। जिससे कंपनी फरवरी 2018 तक कूलटेक्सव फैब्रिक से बने इन्फीकूल डेनिम की शुरुआत करेगी। 

कंपनी के मुताबिक वे रेलॉन के लिए 5 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय ब्रांड के साथ बातचीत कर रहे हैं। रेलान ब्रांड के जरिए RIL को देश के 2,50,000 करोड़ रुपये के परिधान उद्योग में बड़ी जगह बनाने में आसानी होगी। साथ ही बड़ी बात भी यह है कि RIL की पहल से भारत की फैब्रिक इम्पोर्ट पर निर्भरता भी कम होगी । जानकारी के लिए बता दें कि पिछले तीन साल में भारत में इसका इम्पोर्ट 50 करोड़ वर्ग मीटर का रहा है। परिधान उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार देश में 90 प्रतिशत फैब्रिक चीन से आता है। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।