एशियन हॉस्पिटल ने बुखार के इलाज में थमाया 18 लाख का बिल, फिर भी नहीं बचा पाए गर्भवती की जान!

एशियन हॉस्पिटल ने बुखार के इलाज में थमाया 18 लाख का बिल, फिर भी नहीं बचा पाए गर्भवती की जान!

By: shailendra shukla
January 11, 15:01
0
Faridabad: एक बार फिर से निजी अस्पतालों द्वारा बिल बनाने को लेकर मनमानी किए जाना का मामला सामने आया है। मामला फरीदाबाद के एशियन हॉस्पिटल का है जहां बुखार का इलाज के नाम पर 18 लाख लिए गए फिर भी गर्भवती महिला की जान नहीं बचाई जा सकी।


मिली जानकारी के मुताबिक, फरीदाबाद स्थित एशियन हॉस्पिटल में एक गर्भवती महिला का इलाज चल रहा था। जिसको बुखार की शिकायत थी। इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई। आरोप लगाया जा रहा है कि इलाज के एवज में एशियन हॉस्पिटल ने 22 दिन का 18 लाख रुपए का बिल थमाया है। अपने सदस्य को गंवाने वाले परिवार को उस समय और सदमा लग गया जब उन्होंने इतना भारी-भरकम बिल देखा। परिवार ने मामले की जांच की मांग की है।

बिल की कॉपी -I

इसे भी पढ़ें-

सेना की अपील, जवानों की शान में करें रक्त दान, बचाएं किसी का जीवन

मृतक महिला के चाचा ने बताया कि उसे बुखार था लेकिन उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था। बाद में हॉस्पिटल ने कहा कि उसे टाइफाइड है। इसके बाद हॉस्पिटल ने कहा कि उसके आंत में छेद है।

मृतक महिला के चाचा

उन्होंने बताया कि हमें ऑपरेशन के लिए 3 लाख रुपए जमा करने के लिए कहा और कहा कि पूरी रकम जमा होने के बाद यह किया जाएगा। हमने अब तक 10-12 लाख रुपए जमा किए हैं और हॉस्पिटल हमसे 18 लाख रुपए की मांग कर रहा है।

बिल की कापी-II


मामले में एशियन हॉस्पिटल के क्वालिटी और सेफ्टी विभाग के चेयरमैन डॉ रमेश चंद्रा ने कहा कि महिला 32 सप्ताह की गर्भवती थी। उसे 8-10 दिनों से बुखार था। हमने टाइफाइड पर संदेह किया और आईसीयू में इलाज शुरू किया। उसका बच्चा बच नहीं सकता था। हमने पाया कि उसके आंत में छेद था। इसके लिए सर्जरी की गई थी लेकिन हम उसे बचा नहीं पाए। हालांकि, बिल से जुड़े सवाल पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

इसे भी पढ़ें-

शाबास यूपी 100! पिज्जा ब्वॉय की छोड़ो, यमराज से भी पहले पहुंचकर बचाई हजारों लोगों की जान

बिल की कॉपी-III

गौरतलब है कि इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके है। गुड़गांव के फोर्टिस अस्पताल ने डेंगू के इलाज के लिए 16 लाख का बिल थमाया था। सात साल की बच्ची आद्या को डेंगू के चलते माता-पिता ने फोर्टिस में भर्ती कराया था, जहां 15 दिनों तक इलाज के बाद भी बच्ची की मौत हो गई। जिसके बाद अस्पताल ने उन्हें 16 लाख का 19 पेज लंबा बिल थमा दिया। इसमें अस्पताल की ओर से 661 सीरिंज, 2,700 ग्लव्स के अलावा और भी कई चीजों को शामिल किया गया था।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।