निजामुद‍्दीन मरकज के कोरोना संदिग्ध ने किया आत्महत्या का प्रयास, अस्‍पताल में हड़कंप मचा

New Delhi : निजामुद्दीन मरकज के तब्लीगी जमात में शामिल एक सदस्य ने बुधवार को राजीव गांधी सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में अफरातफरी मचा दी। अस्पताल की छठी मंजिल पर स्थित आइसोलेशन वार्ड के कमरे में भर्ती इस कोरोना संदिग्ध ने दस मिनट तक कूदने का ड्रामा किया। इस दौरान अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ नीचे पहुंच गए। बार-बार उससे अंदर जाने की अपील की गई। इसी दौरान एक डॉक्टर उसके कमरे में पहुंच गए, तब वह खिड़की से अंदर चला गया।
अस्पताल प्रशासन के मुताबिक संदिग्ध मरीज को मंगलवार सुबह यहां भर्ती किया गया था। उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं लग रही है। इस वजह से उसकी मनोचिकित्सक से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये काउंसिलिंग कराई गई है।
दोपहर करीब 12:20 बजे यह संदिग्ध मरीज अपने कमरे की खुली खिड़की पर चढ़ गया। जोर-जोर से बाहर निकालने के लिए चिल्लाने लगा। ऐसा नहीं करने पर कूदने की धमकी देने लगा। उसकी आवाज सुनकर दूसरे ब्लॉक के कर्मचारी नीचे पहुंच गए। उन्होंने उसे अंदर जाने के लिए कहा। लेकिन, वह जिद पर अड़ा रहा। इसके बाद दमकल विभाग और कोरोना वार्ड में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर को इसकी सूचना दी गई।


इसके बाद डॉक्टर उसके कमरे में पहुंच गए। किसी तरह मान-मनौव्वल के बाद मरीज कमरे के अंदर दाखिल हो गया। लेकिन अस्पताल प्रशासन के लिए यह घटना एक चुनौती के रूप में सामने आई है। डॉक्टरों का कहना है कि हम लोग इलाज तो कर सकते हैं लेकिन दमकलकर्मी की तरह हम किसी को कूदने से बचा नहीं सकते हैं। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना के मरीजों के कमरों में वेंटिलेशन जरूरी है। इस वजह से खिड़की को बंद नहीं किया जा सकता है। इस दौरान पूरे अस्‍पताल में अफरातफरी का महौल बन गया था।
बता दें निज़ामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात में हिस्सा लेने वाले लोगों में से 134 लोगों की जांच के बाद रिपोर्ट आ गई है और सभी लोग कोरोना पॉजेटिव पाये गये हैं। यानी सभी को कोरोना हो गया है। NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक देश के अलग अले हिस्से में मरकत में शामिल होने वाले लोग कोरोना पॉजेटिव पाये गये हैं।
इधर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज बताया – मरकज से 2346 लोगों को निकाला गया है। इसमें से 1810 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। 536 लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। जिन लोगों में कोरोना के लक्षण या बीमारी के लक्षण नजर आये उन सभी को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।
बहरहाल जिन 134 लोगों में पुष्टि हुई है उसमें से 50 तमिलनाडु के हैं। आज सुबह 4 बजे मरकज को खाली कराया गया। 2346 लोग मरकज़ से निकाले गए। हालांकि, मरकज़ से जुड़े लोगों का दावा था कि अंदर महज़ 1000 लोग थे। तेलगांना के 6 समेत सात कोरोनावायरस संक्रमितों की मौत के बाद सोमवार को निजामुद्दीन मरकज में रुके लोगों को बाहर निकालने की कार्रवाई शुरू की गई थी। दिल्ली पुलिस ने मरकज़ प्रशासन के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इस मामले की जांच पुलिस क्राइ’म ब्रांच करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + one =