Google में नई नियुक्तियों पर रोक, सीईओ ने कहा – हमें 2008 की मंदी से सबक लेना चाहिये

New Delhi : गूगल ने साल 2020 में बाकी महीने के लिए स्लो हायरिंग का फैसला किया है। गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने कोरोनावायरस महामारी को देखते हुए कंपनी में लोगों को काम पर रखने की प्रक्रिया धीमी कर दी है। इस बात की जानकारी कर्मचारियों को एक ईमेल के जरिये दी गई है।

कंपनी ने एक बयान में कहा है – हमलोग कुछ समय के लिए हायरिंग प्रक्रिया को कम करना चाहते हैं। इस समय हमारा फोकस अन्य क्षेत्रों में व्यवसाय को बढ़ाना है। हम अपने मिशन को इसी तरह आगे बढ़ाते रहेंगे। इस समय दुनिया की अर्थव्यवस्था 2008 के वित्तीय संकट जैसी स्थिति में ही है और हमें 2008 की परिस्थितियों से सबक लेना चाहिए। कर्मचारियों की लो हायरिंग के बावजूद भी हम निवेश करना जारी रखेंगे।

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का कहना है – कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए एशिया के गूगल कार्यालयों को 2 महीने से ज्यादा समय से हमने बंद करके रखा है। ऐसे समय में हमें अपने जरूरी उपकरणों जैसे लैपटॉप, सिक्योरिटी की आदि की कमी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हम सोच भी नहीं सकते थे कि दुनिया भर में इतने सारे लोगों के लिए इतना बड़ा बदलाव इतनी जल्दी करना पड़ सकता है। हमारी भावनाएं उन लोगों के साथ हैं जिन्होंने इस महामारी के चलते अपने करीबियों को खो दिया है या जो इस बीमारी से जूझ रहे हैं।
उन्होंने कहा – अभी 2020 के केवल 4 महीने ही निकले हैं और उसमें हमने यह अनुमान नहीं लगाया था कि हम में से इतने लोगों को इस वैश्विक महामारी के दौरान घर से ही काम करना पड़ेगा। इस कठिन परिस्थिति में इन चुनौतियों से निपटने के लिए हमने हर समय ज्यादा से ज्यादा सही जानकारी देने का प्रयास किया है और कोरोनावायरस महामारी के दौरान लोगों की मदद के लिए 800 मिलियन डॉलर से ज्यादा का दान भी दिया है। इन सबके अलावा कई सरकारी और सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों की भी हमने मदद करने की कोशिश की है, जिससे इस बीमारी को फैलने से रोका जा सके। इसके साथ-साथ हमने टेस्टिंग और पीपीई और जरूरी चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन के लिए भी निवेश किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five + 3 =