NEET के टॉपर शोएब बोले- ढाई साल मैं सिर्फ पढ़ता रहा, ईद-दिवाली की छुट‍्टी में भी घर नहीं गया

New Delhi : राजस्थान के कोटा ने शुक्रवार को देश में अपना झंडा गाड़ दिया है। कोटा सिटी ने मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम NEET ऑल इंडिया का टॉपर दिया है। दरअसल, ऑल इंडिया टॉपर स्टूडेंट ओडिशा के शोएब आफताब ने कोटा में पढ़ाई की है। शोएब आफताब ने 720 में से 720 स्कोर किये हैं। शोएब अपने परिवार के पहले सदस्य हैं जो डॉक्टर की पढ़ाई करेंगे। शोएब ने बताया कि डॉक्टर बनना उसका सपना था, जो अब साकार होने जा रहा है। 2018 में वह कोचिंग के लिए कोटा आया था। और उसके बाद उसने अपनी पढ़ाई और तैयारी को प्राथमिकता देते हुये पिछले दो सालों में किसी समारोह में शामिल नहीं हुआ और न ही ईद मनाई।

आफताब ने कहा- मैं कोटा में अपनी माँ और छोटी बहन के साथ पीजी में रहता हूँ। इस साल 12 वीं में 95.8 प्रतिशत अंक हासिल हुआ। ऑल इंडिया 37 वीं रैंक और 10 वीं में 96.8 प्रतिशत अंक थे। मैंने यह सफलता शिक्षकों के मार्गदर्शन से ही प्राप्त की है। लॉकडाउन के लाभ के बारे में बात करते हुए, आफताब ने कहा कि मैं लॉकडाउन के दौरान नहीं रुका, मैंने अपनी कमजोरियों को दूर किया, मैं एनईईटी पाठ्यक्रम में कमजोर विषयों को बार-बार संशोधित करता रहा। इसने उन मुकाबलों का भी नेतृत्व किया, जो उन विषयों पर ज्यादा ध्यान केंद्रित नहीं करते थे जो मजबूत थे। कोचिंग के दौरान, कक्षा ने दैनिक होमवर्क किया और तीनों विषयों को समान समय दिया। मैं एक शेड्यूल बनाकर हर दिन अध्ययन करता हूं, प्रत्येक विषय को अलग-अलग समय देता हूं। कोचिंग क्लासेस और साप्ताहिक परीक्षणों से बहुत मदद मिली।
शोएब ने बताया कि एक बार कोटा आने के बाद वह ढाई साल तक अपने घर नहीं गया। कई मामले ऐसे आए जब पिता ने कहा कि ‘घर आ जाओ’ लेकिन मैं नहीं गया। दीपावली और ईद की भी छुट्टी में मैं कोटा में रहा और अपनी शिक्षा को बाधित नहीं होने दिया। यहां तक ​​कि लॉकडाउन में, जब हर कोई घर चला गया, मैं यहाँ रहा, इससे मेरी तैयारी और भी बेहतर हो गई। मैंने सब पर दोबारा गौर किया।

आपको कोटा से बेहतर सुविधा नहीं मिल सकती। मम्मी साथ रहती हैं इसलिए खाने-पीने की कोई समस्या नहीं थी। वैसे भी, बोर्ड परीक्षा के बाद, NEET के पूरे सिलेबस को संशोधित करने के लिए पर्याप्त समय नहीं है। इसलिए मैंने 5 महीने के लॉकडाउन का पूरा उपयोग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty eight − = twenty five