सऊदी अरब में टूटी पाबंदियों की बेड़ियां, अब लड़कियों को भी मिलेगी Physical Education

सऊदी अरब में टूटी पाबंदियों की बेड़ियां, अब लड़कियों को भी मिलेगी Physical Education

By: Sachin
September 12, 20:09
0
.

New Delhi: सऊदी अरब, दुनिया का एक ऐसा देश जहां महिलाओं पर सबसे ज्यादा पाबंदियों लगाई गईं हैं फिर चाहे वो ड्राइविंग हो या ड्रेसिंग सेंस...! यहां तक कि सऊदी में महिलाएं पति, बेटा या पिता की अनुमति के बिना कोई मेडिकल जांच तक नहीं करा सकतीं।

इन सबके बावजूद सऊदी अरब में पहली बार महिलाओं के लिए कोई खुशखबरी आई है। दरअसल, वहां पहली बार लड़कियों के लिए शारीरिक शिक्षा यानि फिजिकल एजुकेशन की शुरुआत होने जा रही है, जिसके तहत लड़कियों को स्कूल में पढ़ाई के साथ-साथ खेल गतिविधियों में भी हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। 

शिक्षा मंत्री अहमद अल ईसा ने इसकी जानकारी देते हुए कहा, 'अगले शैक्षणिक सत्र से इसकी शुरुआत होगी। पाठ्यक्रम को शरई कानून के अनुसार तैयार किया गया है।' आपको बता दें कि सऊदी अरब में अब तक इस तरह की शिक्षा पर रोक थी। गौरतलब है कि इससे सऊदी अरब में महिलाओं को पुरषों को खेलते देखने तक की भी अनुमति नहीं थी।

इसलिए शारीरिक शिक्षा को पाठ्यक्रम से जोड़ा

दरअसल, सऊदी महिलाओं में बढ़ते मोटापे को ध्यान में रखते हुए ये ऐतिहासिक फैसला लिया गया है. सऊदी में 62% महिलाएं मोटापे की चपेट में हैं और सिर्फ 13% नागरिक ही व्यायाम करते हैं, जिसे देखते हुए स्थानीय NGO भी लगातार इस कार्यक्रम को जल्द से जल्द लागू करने का दबाव बना रहे हैं।

इस संबंध में 2013 में शिक्षा मंत्रालय ने पहली बार घोषणा की थी कि इस तरह के कार्यक्रम की रूपरेखा सरिया के तहत तैयार की जा रही है और शारीरिक शिक्षा के लिए 9000 शिक्षकों को तैयार भी किया जा रहा है।

फैसले पर संदेह

हालाकि सरिया का हवाला देने वाले कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं को शिक्षा मंत्री के इस फैसले पर संदेह भी है। उनका कहना है कि क्या इस क्लास के लिए लड़कियों को अपने  गार्जियन की मंजूरी की जरूरत होगी। हालांकि रूढिवादी देश में यह बेहद महत्वपूर्ण फैसला माना है क्योंकि महिलाओं का व्यायाम करना तक यहां 'असभ्य' माना जाता है।

ये बंधन हैं सऊदी महिलाओं पर

  • वाहन चलाने की अनुमति नहीं
  • विदेश नहीं जा सकतीं
  • पति, बेटा या पिता की अनुमति के बिना कोई मेडिकल जांच नहीं 
  • सार्वजनिक मौकों पर शरीर का बाल तक ढंका होना जरूरी है

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments