रोहिंग्या पर मायावती बोलीं- इन्हें मत भेजो वापस,  BJP का पलटवार- हम वोटों की राजनीति नहीं करते

रोहिंग्या पर मायावती बोलीं- इन्हें मत भेजो वापस, BJP का पलटवार- हम वोटों की राजनीति नहीं करते

By: Aryan Paul
September 14, 14:09
0
New Delhi:

रोहिंग्या मुस्लिमों पर बसपा सुप्रीमो मायावती के बयान की बीजेपी ने आलोचना की। बीजेपी नेता जी.वी.एल नरसिम्हा राव ने कहा कि देश की सुरक्षा से किसी भी हाल में समझौता नहीं किया जा सकता । सरकार मानवीय तरीके से ही काम कर रही है।

मायावती ने बुधवार को कहा था कि केंद्र को राज्यों से रोहिंग्या को निकालने के लिए फोर्स नहीं करना चाहिए । उन्हें वहीं रहने देना चाहिए और उनकी समस्या के समाधान के लिए म्यांमार और बांग्लादेश से बात करनी चाहिए।

बता दें कि बीजेपी नेता जी.वी.एल नरसिम्हा राव ने कहा कि केंद्र सरकार किसी भी हाल में देश की सुरक्षा के लिए खतरा नहीं पैदा होने देना चाहती। रोहिंग्या भारत में सिर्फ एक शरणार्थी की तरह रह रहे हैं, और उन्हें उनके देश भेजना किसी भी तरह से गलत नहीं है, क्योंकि वे देश के लिए खतरा बन सकते हैं। दूसरी और केंद्र उनको जबरदस्ती ढकेल नहीं रहा है, उनके साथ मानवीय तरीके से ही व्यवहार किया जा रहा है, किसी के भी साथ कोई अमानवीय सूलक नहीं किया जा रहा है। उन्हें कानून के मुताबिक ही डिपोर्ट करने की बात की जा रही है।

उन्होंने विपक्ष कांग्रेस, सपा और बसपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार विपक्ष की तरह वोट बैंक के लालच में देश की सुरक्षा से कोई खिलवाड़ नहीं कर सकती । जबकि विपक्ष का बार-बार आ रहा बयान सिर्फ वोट बैंक से ही जुड़ा है। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में रह रहे रोहिंग्या कभी भी देश की सिक्योरिटी को चैलेंज कर सकते हैं। सरकार अवैध तरीके से उन्हें देश में नहीं रख सकती।

दरअसल मायावती का कहना है कि केंद्र को रोहिंग्या को लेकर एडाप्शन पॉलिसी अपनानी चाहिए, उन्हें वापस नहीं भेजना चाहिए। ना ही राज्यों से उन्हें भेजने को लेकर कोई फोर्स करना चाहिए। केंद्र सरकार को बांग्लादेश और म्यांमार से बातचीत कर हल निकालना चाहिए। साथ ही मायावती का कहना है कि रोहिंग्या को वापस भेजना भारत के कल्चर के खिलाफ है।

बता दें कि रोहिंग्या को म्यांमार में अवैध बांग्लादेशी समझा जाता है, जो अवैध रूप से म्यांमार में रह रहे हैं। म्यांमार सरकार उन्हें धर्म के आधार पर पहचान देने से इन्कार करती है। उन्हें रोहिंग्या मुस्लिम का लेबल देने से इन्कार करती है। इसलिए उन्हें वहां नहीं रखना चाहती। इसी वजह से सेना और रोहिंग्या लड़ाकों के बीच हो रही लड़ाई में आम रोहिंग्या भी मारे जा रहे हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।