ये लक्षण करते हैं गले के कैंसर का इशारा, रहे सतर्क

ये लक्षण करते हैं गले के कैंसर का इशारा, रहे सतर्क

By: Waqar Panjtan
September 12, 22:09
0
.

 New Delhi: आवाज की जिम्मेवारी गले में पाए जाने वाली स्वर पेटी यानि की लरयक्स की होती हैं। कई बार धुम्रपान और तम्बाकू के सेवन के कारण लरयक्स पर बुरा असर पड़ने लगता हैं। जानिए गले का कैंसर होने का कारण और साथ ही जानिए...

ज्यादातर मामलों में देखा जाता है कि मुंह और गले का कैंसर सबसे ज्यादा महिलाओं के मुकाबले पुरुषों को ज्यादा होता है। यह दिल्ली जैसे शहरों में तेजी से फैल रहा है। गले के कैंसर से मुख्य रुप से सिगरेट और तंबाकू का सेवन करने वाले तो इस बीमारी के संभावित शिकार होते ही हैं साथ ही अप्रत्‍यक्ष धूम्रपान करने वाले भी शिकार होते है।

एक सर्वे के अनुसार, गले का कैंसर 20 से 25 साल के युवा को भी हो रहा हैं। हालांकि इसके सबसे ज्‍यादा शिकार 40-50 वर्ष की उम्र के लोग हैं। यह कैंसर खतरनाक हो सकता है क्‍योंकि मुंह की सामान्‍य समस्‍याओं को लोग नजरंअंदाज करते हैं और इसकी चपेट में आ जाते हैं। पहले जमाने की बात करें तो .ह केवल उम्रदराज लोगों को होता था।

  क्या है गले का कैंसर

ज्यादातर गले के कैंसर मुख के तार पर शुरू होते हैं, और बाद में स्वर यंत्र से गले के पिछले हिस्से, जिसमें जीभ और टांसिल्‍स के हिस्से शामिल होते हैं। ये धीरे धीरे श्‍वांसनली में भी फैल जाते हैं।

ये है लक्षण

ज्यादा दिनों तक के लिए आवाज बदलना या फिर आवाज में भारीपन आना।

खाना निगलने में दिक्कत होना।

तेजी से वजन कम होना।

लंबे समय तक गले में खराश रहना।

कफ के साथ खून निकलना।

गर्दन में सूजन और दर्द बना रहना।

लंबे समय तक कानों में दर्द रहना।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।