मंत्रीजी की भगवा रंगबाजी- अपने पुनर्जन्मोत्सव के लिये जबरिया गली के घरों को रंग दिया भगवा रंग में

New Delhi : उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी के घर के आसपास के सभी घरों को भगवा रंग में रंगवा दिया गया है। आसपास की गलियों का नाम मंत्री नंदी जी की गली है और इन गलियों में सिर्फ भगवा ही दिख रहा है। इन घरों पर देवी-देवताओं की तस्वीरें बनाई जा रही हैं। इलाके के कुछ लोगों ने घरों की दीवारों को भगवा किये जाने का विरोध किया। विरोध के बावजूद मंत्री के रिश्तेदारों और चेलों ने लोगों को डराया। डराने के बाद उनके घरों को भगवा रंग में रंग दिया।

बहरहाल इस मामले में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। स्थानीय निवासी रवि गुप्ता और इलाके के रिटायर्ड पशु चिकित्सक ने मंत्री के रिश्तेदार और अज्ञात लोगों के खिलाफ कोतवाली में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। इस पूरे मामले में कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी का कहना है – इलाके का विकास और सौन्दर्यीकरण किया जा रहा है, जिसका कुछ लोग राजनैतिक लाभ लेने के लिये जबरन विरोध करे रहे हैं। सिर्फ भगवा नहीं है। मां पार्वती की साड़ी का रंग लाल है। गणेश जी की धोती का रंग अलग है। पहाड़ का रंग हरा है। भगवान शिव की छाल ब्राउन कलर की है।

कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी का बहादुरगंज इलाके में घर है। घर के पास ही एक पुराना शिव मंदिर हैं, जहां पर कैबिनेट मंत्री नंदी भी पूजा पाठ करने जाते हैं। इसी मंदिर के बाहर पिछले 10 साल से कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी 12 जुलाई को अपना पुनर्जन्मोत्सव कार्यक्रम मनाते हैं लेकिन इस साल कोरोना की वजह से उन्होंने भंडारा नहीं किया। दरअसल दस साल पहले वे एक बम के अटैक में बाल बाल बच गये थे, जिसके बाद ये पुर्नजन्मोत्सव मनाया जाता है।
इस साल बहादुरगंज के इस शिव मंदिर के आसपास सड़क पर बने सभी घरों को भगवा रंग में रंग दिया गया। रवि गुप्ता का आरोप है – जब उन्होंने अपने घर को रंगने से रोका तो मंत्री के मौसेरे भाई और उसके कई साथियों ने घर पर पत्थर फेंके और डराकर जबरन घर को भगवा रंग से रंगवा दिया। उन्होंने इसका एक वीडियो भी बनाया है।

शिकायतकर्ता रवि गुप्ता का कहना है- कैबिनेट मंत्री और उनकी महापौर पत्नी की वजह से ही पूरे इलाके को एक ही रंग से रंगा जा रहा है। मंत्री के रुतबे और डर की वजह से लोग खुलकर विरोध नहीं कर पा रहे हैं, जो शिकायत कर रहा है उसे भी उनके लोग डरा रहे हैं। वे सिर्फ घरों को नहीं रंग रहे। बोर्ड, नेम प्लेट, शॉप की ग्रिल सभी भगवा रंग में रंग रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ninety six − ninety five =