गरीबों का मसीहा : फिर 2000 से ज्यादा लोगों को सोनू सूद ने भेजा घर, बोरिवली स्टेशन छोड़ने भी गये

New Delhi : दानवीर और गरीबों के मसीहा सोनू सूद और नीति गोयल का घर भेजो मिशन अनलॉक फेज वन में भी लगातार चल रहा है। शुक्रवार को दोपहर मुंबई के बोरिवली स्टेशन से 2000 से ज्यादा प्रवासियों को रवाना करने एक बार फिर सोनू पहुंचे। पहले सोनू प्रवासी श्रमिकों को भेजने बसों का इंतजाम कर रहे थे अब वे ट्रेनों के जरिये इस काम को अंजाम दे रहे हैं। अब तक सोनू करीब 40 हजार लोगों को उनके घर भेज चुके हैं। इसमें असम, उड़ीसा और उत्तराखंड के वे लोग भी शामिल हैं जिनके लिए सोनू ने फ्लाइट की टिकट्स बुक करवाई थीं।

 

इसके पहले 8 जून की रात सोनू सूद को मुंबई के बांद्रा टर्मिनल स्टेशन के अंदर नहीं जाने दिया गया। वे वहां से उत्तर प्रदेश जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सवार कुछ मजदूरों को विदा करने आए थे। लेकिन आरपीएफ ने उन्हें प्लेटफॉर्म पर नहीं जाने दिया। इस दौरान सूद करीब 45 मिनट तक आरपीएफ कार्यालय में ही बैठे रहे। हालांकि इस घटना के बारे में सोनू सूद ने कहा था- मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि मुझे प्लेटफॉर्म पर जाने को मिला या नहीं। मेरा काम मजदूरों को उनके घर भेजना है और मैं उन्हें यहां पर विश करने के लिए आया था।

इससे पहले शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए सूद पर आरोप लगाया था कि वे भाजपा की लिखी स्क्रिप्ट पर काम कर रहे हैं, ताकि राज्य सरकार को बदनाम किया जा सके। उन्होंने महाराष्ट्र के सामाजिक परिदृश्य में अचानकर महात्मा सूद के सामने आने को लेकर भी सवाल खड़ा किया था। जिसके बाद सोनू ने रविवार रात मातोश्री जाकर सीएम उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी।

अभी तक उनको कई राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री उनकी समाज सेवा के लिये तारीफ कर चुके हैं। अब इस लिस्ट में एक नया नाम जुड़ा है। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का। उन्होंने सोनू सूद को महान बताया है। मुख्यमंत्री सोनोवाल ने ट्वीट किया- एक महान अभिनेता होने के अलावा सोनू सूद एक महान इंसान भी हैं। जरूरतमंद लोगों के लिए एक शानदार आदमी हैं। मैं मुम्बई से असम के 180 प्रवासियों को सिलचर पहुंचाने के लिये आपका धन्यवाद करना चाहता हूं। आपने उनको प्लेन से भेजा इसके लिये तहेदिल से अपको धन्यवाद देता हूं। आपके जज्बे को सलाम।

सोनू सूद ने असम के मुख्यमंत्री के धन्यवाद का जवाब देते हुये पूरी विनम्रता दिखाई। उन्होंने लिखा – यह मेरा सौभाग्य है सर। मुझे बेहद खुशी है कि मैं उन लोगों को उनके परिवारों के साथ फिर से मिला सका। अपने नये परिवार के सदस्यों के साथ जल्द ही BIHU मनाने के लिए उत्सुक हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − 6 =