अभी-अभी: पटाखा व्यापारियों को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत,पटाखे पर पाबंदी जारी

अभी-अभी: पटाखा व्यापारियों को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत,पटाखे पर पाबंदी जारी

By: Naina Srivastava
October 13, 13:10
0
....

New Delhi: दिल्ली-एनसीआर में 31 अक्टूबर तक पटाखा बिक्री पर रोक के फैसले में बदलाव के लिए पटाखा कारोबारियों ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कारोबारियों की याचिका को खारिज कर दिया है और पटाखों पर पाबंदी जारी रखी है। वहीं शीर्ष अदालत का कहना है कि रात 11 बजे के बाद दिल्ली एनसीआर में पटाखे नहीं फोड़े जाएंगे। दूसरी ओर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में शाम साढ़े छह बजे से रात साढ़े नौ बजे तक ही पटाखा फोड़े जा सकेंगे।

अदालत के आदेश से उनका काफी नुकसान होगा। जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने आश्वासन दिया कि कारोबारियों की अंतरिम याचिका पर तुरंत सुनवाई के लिए वह रोक का आदेश देने वाली बेंच के जजों से बात करेंगे। उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने 9 अक्टूबर को पटाखा बिक्री पर रोक का आदेश दिया था। 


 सुप्रीम कोर्ट ने नई दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक बरकरार रखी है। अब दीवाली से पहले यहां पटाखों की बिक्री नहीं होगी। बता दें कि इस बार दिवाली 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पटाखों की बिक्री 1 नवंबर, 2017 से दोबारा शुरू हो सकेगी। इस फैसले से सुप्रीम कोर्ट देखना चाहता है कि पटाखों के कारण प्रदूषण पर कितना असर पड़ता है।

गौरतलब हो कि पिछले साल भी कुछ बच्चों ने सुप्रीम कोर्ट में पटाखा बैन को लेकर अर्जी डाली थी। सुप्रीम कोर्ट में तीन बच्चों की ओर से दाखिल एक याचिका में दशहरे और दीवाली पर पटाखे जलाने पर पाबंदी लगाने की मांग की गई थी। अपनी तरह की यह अनूठी याचिका दाखिल करने वाले इन बच्चों की उम्र 6 से 14 महीने के बीच थी। बता दें कि ये पहला मामला है जब ऐसा हुआ है कि बच्चे पटाखा बैन करने के लिए कोर्ट के दरवाजे पर जा पहुंचे।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।