शराब भले महंगी हुई, फर्क नहीं पड़ा : दिल्ली में सुबह 5 बजे से कतारबद्ध हो गये दारू खरीदने के लिये

दिल्ली सरकार ने शराब की कीमतों में 70 फीसदी का इजाफा किया है, लेकिन इसके बावजूद भी शराब प्रेमियों पर इसका फर्क दिखाई नहीं देता है। मंगलवार सुबह 5 बजे से ही लोग लाइन में खड़े होने लगे। दुकान खुलने तक लंबी लंबी लाइनें लग गईं। शराब की दुकानों पर उमड़ी भीड़ को सीमित करने और सरकारी राजस्व बढ़ाने के मकसद से दिल्ली सरकार ने स्पेशल कोरोना शुल्क लगा दिया है। शुल्क की दर एमआरपी पर 70 फीसदी होंगी। 5 मई की सुबह से टैक्स की नई दरें लागू हो गई हैं। 4 मई को दिल्ली में शराब की दुकानों पर भारी भीड़ रही। सोशल डिस्टेंसिग का पालन करवाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। कई जगह दुकानें भी बंद करा दी गई। बावजूद इसके भीड़ कम नहीं हुई।

पूर्वी दिल्ली के विश्वास नगर इलाके में सुबह से शराब की दुकान पर भीड़ सुबह से ही दिखाई देने लगी। इन लोगों को कोई फर्क नहीं पड़ता है कि सरकार ने शराब के दाम बढ़ाए हैं। टैक्स बढ़ने के बाद पहले जो शराब की बोतल 500 रुपए में पड़ती थी, अब उसके लिए दिल्ली में 850 रु. चुकाने होंगे। 1000 की बोतल पर अब 1700 रुपए ढीले करने पड़ेंगे। 2000 की बोतल के लिए अब 3400 देने होंगे। दिल्ली के एक्साइज कमिश्नर ने पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखकर साफ कर दिया है कि दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना पुलिस की जिम्मेदारी है।
शराब के ठेके सुबह 9 बजे से साढ़े 6 बजे तक खुले रहेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से कायदे कानून का पालन करने की अपील की है ताकि दिल्ली में धीरे-धीरे उद्योग धंधों को भी खोला जा सके.।उन्होंने कहा कि अगर लोग नियम का पालन नहीं करते हैं तो छूट को वापस ले लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + one =