खात्मेशिफा : 25000 मुसलमानों ने इकट्ठे होकर पढ़ीं क़ुरान की सेहतबख्श आयते

New Delhi : बांग्लादेश के रायपुर में आज खुले मैदान में 25000 मुसलमान एकसाथ इकट्ठा हुये और क़ुरान की सेहतबख्श आयतें पढ़ीं। यह कोरोना वायरस की प्रार्थना सभा थी। सरकार और आम लोगों की तमाम अपील के बाद भी इस प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। प्रार्थना सभा के बाद मंच से घोषणा की गई कि अब देश सेहतमंद है, किसी वायरस से डरने की बात नहीं है। ये बात अलग है कि आज बांग्लादेश में कोरोना वायरस से मौत की पहली ख़बर भी आई। यहां अभी 14 लोग कोरोना से संक्रमित हैं।
स्थानीय पुलिस प्रमुख तोता मियां ने कहा – क़रीब 10,000 मुस्लिम दक्षिणी बांग्लादेश के रायपुर शहर के एक खुले मैदान में घातक कोरोना वायरस से देश को छुटकारा दिलाने के लिए कुरान से सेहतबख्श आयतें पढ़ीं।
मिया ने समाचार एजेंसी को बताया – उन्होंने देश को कोरोनोवायरस से मुक्त कराने के लिए खात्मेशिफा की प्रार्थना की। हालांकि मियां के विपरीत इस प्रार्थना सभा के आयोजकों ने दावा किया कि इबादत करने वालों की संख्या 25,000 तक पहुंच गई थी।
पुलिस ने कहा कि आयोजकों को प्रार्थना सभा आयोजित करने के लिए अधिकारियों से और ऑथेरिटी से अनुमति नहीं मिली थी। इसके बावजूद इसे रोका नहीं जा सका क्योंकि भीड़ बहुत अधिक थी और बल प्रयोग करने पर हिंसा का अंदेशा था।
बहरहाल इस प्रार्थनासभा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इसे बड़े पैमाने पर शेयर किया जा रहा है।
यह दुनिया भर के कई अन्य सामूहिक समारोहों की तरह ही मनाया जाता है। इसका मूल उद्देश्य विश्व शांति और धार्मिक धार्मिक प्रासंगिकता को बढ़ावा देना है।


बांग्लादेश में अधिकारियों ने पहले ही स्कूलों को बंद कर दिया है और स्थानीय लोगों को बीमारी के प्रसार को रोकने के प्रयास में बड़ी सभाओं से बचने के लिए कहा है।
अविश्वसनीय है कि उन्होंने पुलिस को सूचित किए बिना इसे कैसे किया है? अब्दुर रहमान ने फेसबुक पर लिखा है कि अगर क्षेत्र के लोगों के साथ कुछ भी होता है तो प्रार्थना सभा के आयोजकों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिये।
यही नहीं भीड़-भाड़ वाले सार्वजनिक क्षेत्रों से बचने के लिए अधिकारियों और प्रशासनकी अपील के बावजूद बड़े पैमाने पर लोग इसे छुट्टी की तरह मनाने लगे हैं और पर्यटन स्थलों पर जाकर भीड़ बढ़ा रहे हैं।
पुलिस ने कहा कि उन्हें दो समुद्र तटों को बंद करना पड़ा, जिनमें से एक कॉक्स बाजार में है, जो देश का मुख्य रिसॉर्ट जिला है और जो म्यांमार के लगभग एक मिलियन रोहिंग्या शरणार्थियों का घर है।
सत्तारूढ़ अवामी लीग के एक वरिष्ठ नेता ओबैदुल क्वाडर ने कहा – वायरस को रोकने के लिए लॉकडाउन की आवश्यकता हो सकती है। अगर जरूरत पड़ी तो बांग्लादेश बंद को बंद कर दिया जाएगा। जहां आवश्यक हो, इसे लागू किया जाएगा। लोगों को पहले बचाया जाना चाहिए। हम इसके लिए सब कुछ करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirty eight − = thirty six