जया बच्चन बोलीं- जिस थाली में खाया, उसी में छेद करते हो, कंगना बोलीं- अभिषेक लटकता तो भी यही बोलतीं

New Delhi : सुशांत प्रकरण में शुरू से कायम अमिताभ बच्चन के परिवार की चुप्पी मगलवार को राज्यसभा में लावा बनकर फूट पड़ी। जया बच्चन ने गोरखपुर सांसद रवि किशन द्वारा उठाये गये मसले पर गुस्सा जाहिर किया। जया बच्चन बोलीं- फिल्म इंडस्ट्री ने हर आपदा में सबका सहयोग किया है। आर्थिक मदद दी है। अन्यान प्रकार की सेवाएं दी हैं। लेकिन चंद लोगों की वजह से पूरी फिल्म इंडस्ट्री को बदनाम किया जा रहा है। ये ठीक नहीं हो रहा। रवि किशन का नाम लिये बगैर कहा कि लोग जिस थाली में खा रहे हैं उसी में छेद कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि सरकार फिल्म इंडस्ट्री का साथ देगी और इंडस्ट्री की मर्यादाओं की रक्षा करेगी।

जया बच्चन के इस बोल के बाद पूरी इंडस्ट्री तो चुप है लेकिन बॉलीवुड क्वीन कहां रुकनेवाली हैं। उन्होंने थोड़ी देर बाद ही जया बच्चन को एक ऐसा सवाल पूछा जिसका जवाब शायद ही उनके पास हो। कंगना ने पूछा- अगर सुशांत सिंह राजपूत की जगह आपका बेटा अभिषेक बच्चन लटक जाता तो भी आप ऐसा ही बोलतीं। आपकी बेटी श्वेता के साथ कोई घटिया काम करता तो भी ऐसा बोलतीं? आपको अगर इंडस्ट्री में अभिभावक का दर्जा प्राप्त है तो अभिभावकों की तरह बात कीजिये।
कंगना रनौत ने एक के बाद एक कई ट‍्वीट किये, जिससे ऐसा महसूस हुआ कि वे जया के बयान से बेहद गुस्से में हैं। उन्होंने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री में विसंगतियों की कोई कमी नहीं है। किसी भी प्रोडक्शन हाउस के पास ऐसा कोई सेल नहीं जो महिलाओं के साथ होनेवाले शोषण से उनकी रक्षा कर पाये। दुनियाभर में 8 घंटे की शिफ्ट का प्रोविजन है, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में नहीं। कंगना बोलीं- अगर मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का मौका मिला तो मैं इन सारे मुद्दों को उठाऊंगी और उनको बताऊंगी कि फिल्म इंडस्ट्री किन कमियों से जूझ रही है।

बता दें कल रवि किशन ने फिल्म इंडस्ट्री में एनसीबी की जांच को सही करार देते हुये कहा था कि एनसीबी, ईडी और सीबीआई को सुशांत प्रकरण में भीतर तक जाकर गंदगी को साफ करना चाहिये। उनके इसी बयान पर आज जया बच्चन का जवाब आया। जया बच्चन के बयान के बाद रवि किशन बोले कि मैं जया जी के बयान से बेहद आहत हूं, मैं उनका, अमित जी का बेहद अधिक सम्मान करता हूं। यह बात मेरे लिये समझ से परे है कि मैंने ऐसी क्या गलत बात कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 5 = one