रोहिंग्या मामले पर V.K. सिंह ने कहा- रिफ्यूजी पॉलिसी को फॉलो किया जाएगा, सरकार कर रही है विचार

रोहिंग्या मामले पर V.K. सिंह ने कहा- रिफ्यूजी पॉलिसी को फॉलो किया जाएगा, सरकार कर रही है विचार

By: Aryan Paul
September 14, 10:09
0
New Delhi:

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी.के.सिंह ने बुधवार को रोहिंग्या मुस्लिमों के मामले पर कहा कि इन्हें डिपोर्ट करने के मामले में सरकार रिफ्यूजी पॉलिसी को फॉलो करेगी । कोई भी रिफ्यूजी बनकर कहीं नहीं जीना चाहता ।

केरल दौर पर आए वी.के.सिंह ने कहा कि कोई भी किसी भी देश में रिफ्यूजी के तौर पर जिंदगी नहीं बिताना चाहता, हर इंसान अपने मुल्क में ही रहना चाहता है। सरकार मामले को गंभीरता से देख रही है और रिफ्यूजी पॉलिसी के तहत ही इस पर कोई भी फैसला लिया जाएगा । 

साथ ही आपको यह भी बता दें कि 5 सितंबर को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि रोहिंग्या अवैध तरीके से भारत में घुस आए हैं, इसलिए इन्हें डिपोर्ट करना होगा। रोहिंग्या मुस्लिमों का अपना कोई देश नहीं है, वे म्यांमार में रह रहे थे, लेकिन वहां सेना और विद्रोही गुटों के बीच टकराव बढ़ने के कारण रोहिंग्या मुस्लिमों ने भागकर भारत और बांग्लादेश में शरण ले रखी है।

    

गृह मंत्रालय के मुताबिक, करीब 40,000 रोहिंग्या भारत में रह रहे हैं, जिनमें से लगभग 16,000 लोगों के पास ही रिफ्यूजी डाक्यूमेंट हैं। जबकि अवैध तरीके से भी बड़ी संख्या में रोहिंग्या भारत के कई हिस्सों में बसे हैं। UN मानवाधिकार आयोग प्रमुख जैद हुसैन ने मंगलवार को कहा था कि म्यांमार में जानबूझकर रोहिंग्या को निशाना बनाया जा रहा है।

हालांकि बता दें कि रोहिंग्या को वापस भेजने को लेकर हाल ही में बांग्लादेश के विदेश मंत्री का भी बयान आया था, जिसमें उन्होंने भारत से मदद मांगते हुए कहा था कि रोहिंग्या को वापस भेजने में भारत उनकी मदद करें। बता दें कि म्यांमार से भागने के बाद सबसे ज्यादा रोहिंग्या बांग्लादेश में ही बसे हैं। भारत की ही तरह बांग्लादेश को भी रोहिंग्या मुस्लिमों से अपने देश को लेकर खतरा है। भारत में खुफिया एजेंसियों से सरकार को कई ऐसे इनपुट भी मिल चुके हैं, कि रोहिंग्या आतंकी गुटों के साथ शामिल हो सकते हैं।  

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments