भगवान राम की नगरी में मूर्ति बनाने में सहयोग करना चाहते हैं मुस्लिम, CM योगी ने किया था ऐलान

भगवान राम की नगरी में मूर्ति बनाने में सहयोग करना चाहते हैं मुस्लिम, CM योगी ने किया था ऐलान

By: Rohit Solanki
October 13, 18:10
0
.....

 Lucknow: राम मंदिर को लेकर भले ही कोर्ट में हिंदू और मुसलमानों के बीच विवाद चल रहा हो लेकिन भगवान राम की जन्मभूमि पर योगी सरकार द्वारा भव्य मूर्ति के निर्माण का मुस्लिमों ने स्वागत किया है। पहले ही राम मंदिर बनाने के लिए अपना समर्थन दे चुके शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने इस मूर्ति को बनाने में अपना सहयोग देने की इच्छा जताई है।

आपको बता दें कि हाल ही में UP के CM योगी आदित्यनाथ ने सरयू नदी पर भगवान राम की विशालकाय और भव्य मूर्ति बनवाने का ऐलान किया है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए  शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड का कहना है कि रामचन्द्र जी की जन्मस्थली पर नेक काम होने जा रहा है, इसलिए हम भी इसमें सहयोग करना चाहता है। इसमें सहभागिता के लिए सरकार चाहेगी तो बोर्ड जिम्मेदारी निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

बोर्ड चेयरमैन सै. वसीम रिजवी ने बताया कि एशिया की सबसे बड़ी मूर्ति बनने के बाद वास्तव में UP और भारत का गौरव पूरी दुनिया में बढ़ेगा, इसलिए हम सभी की जिम्मेदारी है कि इस निर्माण का खुलकर स्वागत करें। वसीम ने कहा कि UP के अवध प्रांत में 400 साल से गंगा-जमुनी तहज़ीब का दौर शिया समाज और हिंदू समाज के बीच जारी रहा है। अयोध्या में अवध के नवाबों की हुकूमत में वहां के मंदिरों का हमेशा सम्मान किया गया। 

 रिजवी ने बताया कि नवाब शुजाउद्दौला ने अयोध्या स्थित हनुमान गढ़ी मंदिर के लिए वर्ष 1739 से 1754 के बीच भूमि दी थी। इसके बाद नवाब आसिफुद्दौला ने 1775 से 1793 के दौरान हनुमान गढ़ी मंदिर निर्माण के लिए फंड भी दिया, जो इतिहास में दर्ज है। उन्होंने कहा कि अपने बुजुर्गों की दी हुई सीख को हम आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। बोर्ड चेयरमैन ने कहा कि राष्ट्रहित में यह बेहद जरूरी है कि जो लोग देशद्रोही गतिविधियों में शामिल हैं, उनसे सख़्ती से निपटा जाए। 

आपको बता दें कि शिया वक्फ बोर्ड राम जन्म भूमि और बाबरी मस्जिद प्रकरण में आपसी समझौते से मामले को हल करने के लिए सक्रिय है। बोर्ड ने इस सिलिसले में सभी जरूरी पक्षकारों से बात भी कर ली है। सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड अपनी बात रख चुका है और उम्मीद है कि राम मंदिर का निर्माण राम जन्मभूमि पर आपसी समझौते से वर्ष 2018 में मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।