VVIP कल्चर होगा खत्म,मोदी सरकार का फैसला- राष्‍ट्रपति, पीएम की गाड़ियों पर भी लगेगी नंबर प्‍लेट

VVIP कल्चर होगा खत्म,मोदी सरकार का फैसला- राष्‍ट्रपति, पीएम की गाड़ियों पर भी लगेगी नंबर प्‍लेट

By: Madhu Sagar
January 09, 09:01
0
New Delhi: देश से वीवीआईपी कल्चर को पूरी तरह से खत्म करने के लिए एक और कदम उठाया गया है। VVIP गाड़ियों में लाल बत्ती हटाने के बाद अब इन गाड़ियों में नंबर प्लेट लगाना जरूरी किया जा रहा है। 

देश से पूरी तरह वीवीआईपी कल्चर को खत्म करने की दिशा में कैंद्र सरकार दूसरा कदम उठाने जा रही है। पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ये कदम उठाने जा रही है। वीवीआईपी गाड़ियों में लाल बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगाने के बाद अब इन गाड़ियों में नंबर प्लेट लगाना भी अनिवार्य किया जा रहा है। केंद्र सरकार चाहती है कि अब आम नागरिक की तरह ही राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, राज्यपाल, प्रधानमंत्री और अन्य संवैधानिक अधिकारी भी अपने वाहनों पर नंबर प्लेट लगाएं। 

पढ़े- धमाके में घायल महिला के लिए जवान ने बनाया लकड़ी का कावड़, कंधे पर उठाकर पहुंचाया अस्पताल

फिलहाल इन पदाधिकारियों की वाहनों पर केवल राष्ट्रिय ध्वज और राष्ट्रिय प्रतीक लगे रहते थे। बता दें कि पीएम मोदी की गाड़ी में नंबर प्लेट पहले से ही लगी हुई है। पिछले साल मोदी सरकार ने वीवीआईपी कल्चर को खत्म करने के उद्देश्य से लाल-पीली और नीली बत्तियों के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी।

पढ़े- फिर से बढ़ने वाली हैं कंगना की मुश्‍किलें, ''मणिकर्णिका :दि क्वीन ऑफ झांसी'' को लेकर उठा विवाद

दो जनवरी को केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की ओर से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सचिव संजय कोठारी को जारी किए गए मेमो में कहा गया था, ‘मोटर वाहन अधिनियम 1988 के प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए यह अपील की जाती है कि नियमों के मुताबिक राष्ट्रपति भवन के सभी वाहनों पर पंजीकरण चिह्न लगाया जाए।’ उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू के सचिव सुब्बा राओ, सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के राज्यपालों के मुख्य सचिवों को भी ऐसे ही मेमो जारी किए गए हैं।

पिछले महीने एक स्वंय सेवी संस्थान ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। दायर किए गए पी.आई.एल की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि इस विषय को लेकर तय नियम बनाए जाएं। गाड़ी के ऊपर रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं लिखने की प्रथा VIP कल्चर को दर्शाता है। सरकारी पदों पर बैठे लोग जनता के सेवक हैं, इस भावना का ख़्याल रखा जाना चाहिए।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।