प्रद्युम्न मर्डर केस में आज अहम दिन, स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा पर SC में होगी सुनवाई

प्रद्युम्न मर्डर केस में आज अहम दिन, स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा पर SC में होगी सुनवाई

By: Madhu Sagar
September 12, 11:09
0
New Delhi:

7 साल के प्रद्युम्न के स्कूल में टॉयलेट में किए जाने वाले मर्डर में रेयान ग्रुप के मालिकान पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है। आज स्कूल के लिए काफी अहम दिन माना जा रहा है। बता दें बांबे हाई कोर्ट में आज रेयान ग्रुप के ट्रस्टी समूह की अग्रिम जमानत अर्जी पर सुनवाई होगी। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट में आज महिला वकीलों की एक याचिका पर भी सुनवाई होगी।

पबचाव पक्ष के वकील ने बताया पूरे देश में रेयान इंटरनेशनल गु्प्र के 54 स्कूल चल रहे हैं। और यहा के ट्रस्टी समूह के डॉ. ऑगस्टिन फ्रांसिस पिंटो (73) और ग्रेस पिंटो (62) पिछले 40 वर्षों से ज्यादा वक्त से शिक्षा के क्षेत्र में हैं। बच्चों की सुरक्षा ग्रुप के सभी स्कूलों की प्राथमिकता है। बचाव पक्ष के वकील ने इन्हीं तर्कों के आधार पर ट्रस्टी समूह के अधिकारियों की अग्रिम जमानत की मांग की है।

 प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने केस की जांच CBI से कराने की मांग की है। वो अपने बच्चे को इस मामले में इंसाफ दिलाना चाहते हैं। आज सुप्रीम कोर्ट इस मामले में दाखिल याचिका पर सुनवाई करेगा। दरअसल सोमवार को जब सुप्रीम कोर्ट में प्रद्युम्न मर्डर केस पर सुनवाई हो रही थी, उसी दौरान वरुण ठाकुर को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का फोन आया था।

फोन पर खट्टर ने उनसे कहा कि अगर उनका परिवार पुलिस जांच से संतुष्ट नहीं होता है तो हरियाणा सरकार इस केस की CBI जांच कराने को भी तैयार है। बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी प्रद्युम्न की मां ज्योति ठाकुर और अंकल को फोन कर हर संभव मदद का आश्वासन दिया। गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न मर्डर केस के बाद आज सुप्रीम कोर्ट में महिला वकीलों द्वारा दायर याचिका पर भी सुनवाई होगी।

दरअसल महिला वकीलों ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष इस बात को रखा था कि देशभर के अधिकतर स्कूल बच्चों के लिए बनाई गई सेफ्टी गाइडलाइंस का पालन नहीं करते हैं। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने उनसे पहले इस संबंध में याचिका दाखिल करने को कहा था। इसी याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी।

बीते शुक्रवार गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने वाले 7 साल के मासूम प्रद्युम्न की गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। कत्ल का इल्जाम स्कूल बस के कंडक्टर अशोक पर लगा। पुलिस पूछताछ में अशोक ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। अशोक ने पुलिस को बताया कि उसने प्रद्युम्न के साथ कुकर्म करने की कोशिश की थी। नाकाम होने पर पकड़े जाने के डर से उसने प्रद्युम्न की गला रेतकर हत्या कर दी।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments