रॉयल अंदाज में जिंदगी जीते थे चाचा नेहरू,लंदन में धुलते थे कपड़े तो फ्लाइट से लाई जाती थी सिगरेट

रॉयल अंदाज में जिंदगी जीते थे चाचा नेहरू,लंदन में धुलते थे कपड़े तो फ्लाइट से लाई जाती थी सिगरेट

By: Madhu Sagar
November 14, 10:11
0
New Delhi: 14 November को पूरे देश में Children's Day मनाया जा रहा है। India के पहले प्रधानमंत्री Jawahar Lal Nehru के जन्मदिन पर मनाया जाता है। पंडित नेहरू बच्चों से काफी प्यार करते थे। जिसके कारण उन्हें लोग चाचा नेहरू के नाम से भी जाने जाते थे। 

जवाहरलाल नेहरू दिखने में बहुत साधारण वयक्ति थे। लेकिन क्या आप जानते है कि चाचा नेहरू की लाइफस्टाइल काफी अलग थी। वो अपनी जिंदगी को काफी रॉयल अंदाज में जीते थे। आज हम उनके जन्मदिन के मौके पर उनसे जुड़ी कुछ ऐसी बातों के बारे में जानेंगे जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।

जवाहरलाल नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू इलाहाबाद के बड़े वकील थे। नेहरू जी ने अपना बचपन काफी शानदार तरीके से बिताया है। कहा तो ये भी जाता है कि मोतीलाल नेहरू और जवाहरलाल नेहरू के कपड़े लंदन में धुलने जाते थे।


सिगरेट पीने के शौकिन थे जवाहरलाल नेहरू

  • जवाहरलाल नेहरू बहुत शौकिन वयक्ति थे। नेहरू जी को सिगरेट पीने का काफी शौक था। उन्हें अक्सर सिगरेट पीते देखा जाता था। एक बार की बात है जब नेहरूजी भोपाल पहुंचे तो वहां उनकी 555 ब्रांड की सिगरेट खत्म हो गई। वहां उन्हें कहीं भी सिगरेट नहीं मिली। जिसके बाद उनके लिए विशेष विमान में इंदौर से सिगरेट लाई गई। 

नाई को गिफ्ट की लंदन की घड़ी 

  • एक वक्त की बात है जब जवाहरलाल नेहरू लंदन जाने की तैयारी कर रहे थे। उनका नाई हमेशा लेट से आया करता था। नेहरू जी के पूछने पर नाई ने कहा- 'मेरे पास घड़ी नहीं है, जिसके कारण वो हमेशा लेट हो जाया करते हैं।' जिसके बाद वो लंदन से नई घड़ी लाए थे।

लैक्मे ब्यूटी प्रोडक्ट देश का जाना माना नाम है। लेकिन, इसके बनने के पीछे की कहानी थोड़ी दिलचस्प है। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू इस बात को लेकर चिंति‍त थे कि भारतीय महि‍लाएं ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स पर बड़े पैमाने पर वि‍देशी मुद्रा खर्च कर रही हैं। जिसको देखते हुए नेहरू ने जेआरडी टाटा ने ब्यूटी प्रोडक्ट बनाने का निवेदन किया। जिसके बाद लैक्मे मार्केट में आया।

विदेशी कार में सफर करते थे नेहरू जी

  • नेहरूजी को कार से घूमने का काफी शौक था। मोतीलाल नेहरू भी ये बात अच्छे से जानते थे। मोतीलाल नेहरू ने बेटे के लिए विदेशी कार मंगवाई थी। आपको बता दें, इलाहाबाद की सड़कों पर आने वाली यह पहली कार थी।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।