सपा चारों खाने चित्त, बसपा ने मुस्लिम वोटों पर बनाई पकड़

सपा चारों खाने चित्त, बसपा ने मुस्लिम वोटों पर बनाई पकड़

By: Madhu Sagar
December 01, 17:12
0
New Delhi: UP निकाय चुनाव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जादू कायम रहा। जहां बीजेपी के सामने सभी विपक्षी पार्टियां चारों खाने चित्त रही। वहीं  संघर्ष कर रही बसपा ने बाकी पार्टियों के मुकाबले अच्छा प्रदर्शन किया।

प्रदेश में नगर निगम चुनावों में भाजपा का पलड़ा भारी है, पिछले चुनावों के मुकाबले भाजपा ने इस बार नगर निगम के साथ साथ नगर पालिका और नगर पंचायतों में भी शानदार प्रदर्शन किया है। अभी तक आए परिणामों के अनुसार भाजपा निगम की 16 में से 14 सीट पर जीत दर्ज कर चुकी है। 

मायावती

पढ़े- 100 साल बाद लखनऊ को मिली पहली महिला मेयर, BJP की संयुक्ता भाटिया जीतीं

इसके साथ खास बात यह भी देखी जा रही है कि भाजपाके सामने जहां कांग्रेस और सपा चारों खाने चित्त दिख रही हैं। वहीं संघर्ष कर रही बसपा ने वापसी के संकेत दिए है। दलित के साथ बसपा को मुस्लिम वोट बैंक का भी फायदा मिला है। पश्चिम यूपी की राजनीति के केंद्र और भाजपा के गढ़ मेरठ में भी मायावती की बसपा ने भाजपा को धूल चटा दी, जहां नीले निशान वाली पार्टी की प्रत्याशी सुनीता वर्मा 229,238 वोट पाकर विजेता रहीं।

पढ़े- गुजरात: BJP का खेल बिगाड़ने को अरुंधति ने दिया 3 लाख का डोनेशन, मेवानी को इस तरह मिले 9 लाख

इसके साथ भाजपा प्रत्याशी कांता कर्दम को 204,397 मत पाकर दूसरे नंबर से ही संतोष करना पड़ा। अलीगढ़ नगर निगम में भी बसपा के मोहम्मद फुरकान 125682 मत पाकर विजेता रहे। उन्होंने भाजपा उम्मीदवार को 10,445 मतों से हराया। देखा जाए तो बसपा ने अपना दबदबा कायम रखा। वहीं सपा और कांग्रेस दोनों के ही प्रत्याशी मुकाबले में कहीं नहीं दिखे।

दलित अस्मिता के मुद्दे को मायावती ने पूरे जोर शोर से तूल दिया, जिसका नतीजा ये रहा कि पहले लोकसभा और फिर विधानसभा चुनावों में उनका जो कोर दलित वोट बैंक हिंदुत्व के नाम पर उनसे छिटककर भाजपा के पाले में चला गया था वो निकाय चुनावों में वापस लौटता दिखा।

खास बात ये रही कि मायावती की इस मुहिम में उन्हें मुस्लिम वोटरों को भी साथ मिला, जिन्होंने जहां जहां बसपा उम्‍मीदवार मजबूत स्थिति में दिखा वहां वहां पूरी रणनीति के साथ उसके पक्ष में एकतरफा मतदान किया।

मेरठ में बसपा उम्‍मीदवार की जीत इसकी एक बानगी भर हैं, जहां बसपा को मुस्लिमों का लगभग एकतरफा समर्थन मिला जबकि समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी दीपू मनोठिया मात्र 46,530 वोट पास सकीं, जबकि कांग्रेस को 29,201 वोट मिले। इसी सीट पर पिछले निकाय चुनाव में सपा उम्‍मीदवार रफीक अंसारी को एक लाख से ज्यादा वोट मिले थे।
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।