आज है WORLD AIDS DAY ,जानिए, सेक्स वर्कर ही नहीं इन लोगों को भी होती हैं AIDS की बीमारी

आज है WORLD AIDS DAY ,जानिए, सेक्स वर्कर ही नहीं इन लोगों को भी होती हैं AIDS की बीमारी

By: Madhu Sagar
December 01, 12:12
0
New Delhi: हर साल 1 दिसंबर को World AIDS Day मनाया जाता है। इस लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। AIDS HIV संक्रमण की वजह से फैलता है।

एड्स एक ऐसी बीमारी है जिसके बारे में आपको जानकारी होना जरूरी है। पहले इस बीमारी का कोई इलाज नहीं थी लेकिन मेडिकल साइंस ने भी आज इसका भी इलाज ढूंढ लिया है। लेकिन ये बीमारी अभी भी बहुत खतरनाक है। क्योंकि इसकी दवा बहुत कम लोगों तक पहुंच पाती हैं। 1981 से 2012 तक एड्स के कारण दुनिया भर में लगभग 36 मिलियन लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। एड्स डे के मौके पर हम आपको देने जा रहे हैं ऐसी जानकारी जो बहुत कम लोग जानते हैं। 

World AIDS Day

पढ़ें- इस तानाशाह के पास था एड्स का इलाज, महिलाओं के अंडरगार्मेंट्स पर लगाई थी रोक

worldbank.org के मुताबिक, 2012 के सर्वे में 2.61 प्रतिशत महिला सेक्स वर्कर्स को एड्स हुआ, वहीं पुरुष के साथ सेक्स करने वाले 5.01 प्रतिशत पुरुषों को एड्स हुआ। 5.91 प्रतिशत नशीली दवाओं के इंजेक्शन लगाने वालों को और सबसे ज्यादा 18.80 प्रतिशत ट्रांसजेंडर्स को एड्स हुआ।

World AIDS Day

पढ़ें- युगांडा में एड्स का कहर

अक्सर ऐसा सुनने को मिलता है कि जो लोग एचआईवी पॉजिटिव है उन्हें एड्स हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। जो एचआईवी पोजिटिव हैं उन्हें एड्स नहीं हुआ है। HIV (ह्यूमन इम्यूनो डिफिशिएंसी वायरस) ऐसा वायरस है जिसकी वजह से एड्स होता है। जिस इंसान में इस वायरस की मौजूदगी होती है, उसे एचआईवी पॉजिटिव कहते हैं।

World AIDS Day

पढ़ें- वैज्ञानिकों ने खोज निकाला HIV का इलाज,गाय से बनेगा एड्स का टीका

इस वायरस के शरीर में आने पर कमजोरी आने लगती है और कई बीमारियां होने लगती हैं। 8-10 सालों में बीमारियों के लक्ष्ण साफ दिखने लगते हैं। ऐसे में एड्स होने की स्थिति पैदा होती है। HIV पोजिटिव होना और एड्स अपने आप में बीमारी नहीं है। HIV पोजिटिव होने की वजह से शरीर कमजोर हो जाता है और बीमारी से लड़ने लायक नहीं होता। जिसकी वजह से कई बीमारियां लग जाती हैं।


hiv

जानें किन वजहों से होता है एड्स-
* अनसेफ सेक्स (बिना कनडोम के) करने से। 
* संक्रमित खून चढ़ाने से।
* HIV पॉजिटिव महिला के बच्चे में।
* एक बार इस्तेमाल की जानी वाली सुई को दूसरी बार यूज करने से।
* इन्फेक्टेड ब्लेड यूज करने से।
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।