लॉकडाउन में गुड न्यूज : जलंधर से 200 किमी दूर हिमाचल की बर्फ से ढंकी पहाड़ियां दिखने लगीं

New Delhi : लॉकडाउन में जहां ज्यादातर बुरी और निगेटिव खबरें ही सामने आ रही हैं वहीं कहीं-कहीं लॉकडाउन ने लोगों को कुछ ऐसा भी दिखाया है जो उन्होंने कभी जिंदगी में नहीं देखा। जैसे किसी शहर में सड़कों पर हिरण और नीलगाय आराम से विचरण करने लगे तो कहीं कहीं बीच सड़क पर जंगल के जानवरों ने अपना डेरा बना लिया।

साफ वातावरण

पंजाब के लोगों ने ऐसा नजारा देखा है जो आज की पीढ़ी ने तो नहीं ही देखा था, पुरानी पीढ़ियों में कोई ऐसा बताने वाला नहीं है जो ये बता सके कि कभी इससे पहले ऐसा देखा गया था। दरअसल पंजाब के जलंधर की सड़कों से एकाएक हिमाचल प्रदेश के हिमालय दिखने लगे हैं और वो भी बर्फ की चादरों से ढके हुए। चूंकि काफी दिनों से पंजाब में कर्फ्यू है तो गाड़ियों और फैक्ट्रियों का चलना बंद है। इससे शहर की हवा एकदम साफ हो गई है। ऐसे में शहर के बाहरी इलाकों से हिमाचल प्रदेश के बर्फ से ढके पहाड़ दिखने लगे हैं। शुक्रवार सुबह गदईपुर के बाहरी हिस्से से ये सभी पहाड़ साफ दिखे। क्षेत्र के लोग घरों की छत पर चढ़ कर इन्हें देखने जुटने लगे। विशेषज्ञों के मुताबिक हवा इतनी साफ हुई है कि 200 किलोमीटर दूर ये पहाड़ जालंधर के लोगों को दिखाई दिए हैं। पहाड़ों का नजारा किशनपुरा से भी स्पष्ट दिखा। यहां भी बड़ी संख्या में लोगों ने छतों पर आकर इन्हें देखा।
जालंधर शुक्रवार को मौसम साफ होने पर हिमाचल प्रदेश के पहाड़ दिखने लगे। बड़ी संख्या में छतो पर एकत्र होकर लोग इन्हें निहारते रहे। दोआबा कॉलेज में भूगोलशास्त्र के विभाग प्रमुख प्रो. दलजीत सिंह ने बताया कि जालंधर से देखते वक्त एक ओर जो पहाड़ हैं वह पीरपंजाल हैं। दूसरी ओर धौलाधार शृंखला है। डलहौजी के ऊपर वाले बर्फीले पर्वत। बचपन में यह नजारा देखा तो पता नहीं लेकिन सुना बेशक है।

जालंधर से हिमाचल की पर्वत श्रृंखला दिख रही है

शहर के बाकी हिस्से में भी लोग छतों पर आकर इस नजारे को देख रहे हैं। कोई दूरबीन लेकर नजारे को निहार रहा था तो कोई इसे अपने कैमरे में कैद करने में जुटा था। बच्चे हों या बड़े हर किसी का उत्साह देखते ही बन रहा है। शहरवासी प्रकृति की खूबसूरती निहार कर हैरान है। प्रदूषण के कारण लोगों को कभी पता नहीं चला कि शहर से हिमाचल के पहाड़ देखे जा सकते हैं। इस नजारे की चर्चा ट्विटर तक जा पहुंची है। भारतीय वन सेवा के अधिकारी सुशांत नंदा ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट करते हुए लिखा कि प्रकृति कैसी है और हमने इसके साथ क्या कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

78 − = seventy two