घूस दे किस लेने से लेकर शादी तुड़वाने तक : ड्रीमगर्ल के लिये पूरी दुनिया से लड़े थे धर्मेन्द्र

New Delhi : फिल्म इंडस्ट्री की सबसे खूबसूरत और शानदार जोड़ी। ऐसी जोड़ी जिसकी कहानियां न सिर्फ इंडस्ट्री बल्कि देशभर में फैलीं। ऐसे चुलबुले किस्से जिसे सुनकर पेट में मरोड़े पड़ जायें। आज इस जोड़ी ने अपनी शादी के 40 साल पूरे कर लिये। हम बात कर रह हैं सदाबहार जोड़ी धर्मेन्द्र और हेमामालिनी की। दोनों अपने जीवन के सातवें दशक में भी हैंडसम और खूबसूरत दिखते हैं। हेमा मालिनी और धर्मेन्द्र के रोमांस के किस्से आज भी मशहूर हैं। हेमा के साथ रोमांस करने के लिए धर्मेंद्र कई तरीके अजमाते थे, यहां तक कि हेमा के साथ कुछ रोमांटिक पल बिताने के लिये वे फिल्म प्रोडक्शन के क्रू मेमबर्स को रिश्वत भी दिया करते थे। फिल्म शोले की शूटिंग के दौरान धर्मेन्द्र ने कैमरामैन से एक सीन को बार बार शूट करने को कहा। धर्मेन्द्र हेमा से चिपकने और किस करनेवाले इस सीन को बार बार शूट करवाना चाहते थे ताकि वो हेमा के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिता सकें।

हेमा मालिनी को धर्मेन्द्र के अलावा जीतेंद्र और संजीव कुमार भी बहुत पसंद करते थे और उनसे शादी करना चाहते थे। लेकिन धर्मेन्द्र ने किसी की नहीं चलने दी। उन्होंने इनीसियेटिव लेकर हेमा की शादी तुड़वा दी। जीतेन्द्र तो बस शादी करनेवाले थे और धर्मेन्द्र ने ऐसी चाल चली कि सब गुड़ गोबर हो गया। अंतत: इस्लाम कबूलने और दिलावर बनने के बाद धर्मेन्द्र ने हेमा मालिनी से निकाह किया। दोनों ने साल 1980 में निकाह किया।
हेमा के लिए धर्मेन्द्र से शादी करना इतना आसान नहीं था क्योंकि वह पहले से ही शादीशुदा थे। उनकी बीवी ने धर्मेन्द्र को तलाक देने से इंकार कर दिया। इसके बाद धर्मेंद्र ने शादी करने के लिए इस्लाम अपनाया। 21 अगस्त 1979 को इस्लाम धर्म कबूल करते हुए धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी ने अपने नाम बदल लिये। धर्मेन्द्र का नाम बदलकर दिलावर खान हो गया और हेमा का नाम था आयशा.बी। इसके बाद दोनों ने शादी कर ली।

फिल्म सीता और गीता हेमा के करियर के लिये मील का पत्थर साबित हुई। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी एक दूसरे के नज़दीक आये और दोनों का प्यार परवान चढ़ा। दोनों एक दूसरे के करीब आने लगे। दोनों एक दूसरे के साथ फिल्में करते रहे और सारी फिल्में कामयाब भी होती चली जा रही थी। ये ही नहीं, फिल्मों के साथ धर्मेन्द्र और हेमा का रिश्ता भी मज़बूत होता चला गया।
हेमा मालिनी और धर्मेन्द्र की नजदीकियों की खबरें हेमा के पिता को बेहद परेशान करने लगीं। उस वक्त की फिल्म मैगजीन्स में लगातार ये खबरें छप रही थीं कि इस रिश्ते को तोड़ने के लिए हेमा का परिवार उन पर बेहद दबाव डाल रहा है, लेकिन हेमा के लिए धर्मेन्द्र से दूर रहना नामुमकिन सा हो गया था। हेमा मालिनी ड्रीम गर्ल थी और ना सिर्फ आम लड़कों की ड्रीम गर्ल बल्कि बड़े बड़े हीरोज की ड्रीम गर्ल थी और ना जाने हेमा ने किस किस के ड्रीम तोड़े।

कई बड़े हीरोज चाहते थे कि हेमा उनकी हो जायें। ये वो समय था जब शादीशुदा और चार बच्चों के पिता धर्मेन्द्र के साथ हेमा के अफेयर की खबरों को लेकर हेमा का परिवार बेहद दवाब और तनाव में था। संजीव कुमार ने मौके का फायदा उठाते हुए अपने खास दोस्त जीतेंद्र के हाथ हेमा को शादी का प्रपोजल भेज दिया, लेकिन हेमा की मां ने इस रिश्ते के लिए मना कर दिया था।
हेमा ने संजीव कुमार के साथ शादी से इंकार कर दिया। तो खुद संजीव कुमार के खास दोस्त जीतेन्द्र ने मौका देखकर अपने मन की बात हेमा के सामने खोल दी। जीतेन्द्र बहुत अच्छे डांसर थे। दरअसल वो खुद हेमा मालिनी के प्यार में गिरफ्तार हो चुके थे। हेमा मालिनी और जीतेन्द्र की शादी तक पहुंच चुकी थी और फिर चेन्न्ई में एक शाम हेमा मालिनी के बंगले पर दोनों के परिवार शादी की बात करने के लिए मिले भी, लेकिन इससे पहले की बात आगे बढ़ पाती कहानी में हो गई हीरो यानि धर्मेन्द्र की एंट्री।

जीतेन्द्र और हेमा मालिनी की शादी की बात चल ही रही थी कि अचानक हेमा के घर के टेलीफोन की घंटी बज उठी। फोन था मुंबई से धर्मेन्द्र का जिन्हे चेन्नई में हेमा और जीतेन्द्र के परिवार की इस मुलाकात की खबर लग चुकी थी। धर्मेन्द्र बेहद गुस्से में थे। उन्होने हेमा से कहा कि वो कोई भी फैसला लेने से पहले अच्छी तरह सोच लें। जीतेंद्र हेमा से शादी करने की जल्दी में थे। उन्होने हेमा से कहा कि वो फौरन उनके साथ तिरुपति चलें और शादी कर लें। हेमा सोच ही रही थी कि तभी एक फोन आया। लेकिन इस फोन पर धर्मेन्द्र नहीं थे बल्कि थीं लंबे समय से जीतेन्द्र की गर्लफ्रेंड रहीं एयर होस्टेस शोभा सिप्पी। शोभा को भी चेन्न्ई में चल रही बात के बारे में सब पता था। उन्होंने कहा कि वो कोई जल्दबाजी में आ कर कदम ना उठायें।

1978 में हेमा मालिनी के पिता की अचानक मौत हो गई । हेमा मालिनी उनके बेहद करीब थीं और उनकी मौत के बाद वो बेहद अकेली हो गईं । ऐसे वक्त में धर्मेन्द्र ने उनकी हिम्मत बढ़ाई, उनका साथ दिया। बस फिर क्या था हेमा ने धर्मेन्द्र से शादी करने का फैसला कर लिया।
कानून के मुताबिक धर्मेन्द्र पहली पत्नी के होते हुए दूसरी शादी नहीं कर सकते थे। इसलिए 21 अगस्त 1979 को इस्लाम धर्म कबूल करते हुए धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी ने निकाह कर लिया। निकाहनामे के मुताबिक धर्मेन्द्र का नाम था दिलावर खान और हेमा का नाम था आयशा बी। उस समय दोनों ने अपने निकाह की बात छुपाई लेकिन जब ये खबर सामने आई तो हंगामा हो गया और उस दौर में भी इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ। लेकिन धर्मेन्द्र और हेमा ने इस विवाद का असर अपने रिश्ते पर नहीं पड़ने दिया और इस निकाह के कुछ महीने बाद 2 मई 1980 को हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक भी शादी कर ली। शादी का ये पूरा समारोह हेमा के आयंगर परिवार की परंपरा के मुताबिक हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + one =