कंगना को डराने के लिये उनके घर के बाहर हवा में फायरिंग, कहा- मैं डरनेवाली नहीं, सवाल करूंगी

New Delhi : बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत के घर के बाहर बाउंड्रीवाल के पास किसी शख्स ने डराने की नीयत से हवा में फायरिंग की। कंगना ने कहा- आठ सेकेंड के दरम्यान दो बार फायरिंग की गई। कुल तीन गोलियां चलाई गईं। ऐसा लगा कि जैसे मैं जिस कमरे में सोती हूं उस कमरे के बाहर यह गोली चलाई गई। मेरे घर के बाहर का वह हिस्सा ग्रीन फॉरेस्ट जोन है। इसके बाद कंगना ने स्थानीय पुलिस में कम्प्लेन की। पुलिस ने आसपास के इलाके में पूरी छानबीन की लेकिन उनके हाथ कुछ भी नहीं लगा। यह पूरा वाकया 31 जुलाई की रात में हुआ।

रात करीब 11.30 बजे के दौरान फायरिंग की आवाज सुनने के बाद कुल्लू पुलिस को शिकायत की गई। कुल्लू पुलिस ने पूरी पड़ताल के बाद ऐसा आशंका जाहिर की कि पास के सेब के बाग से चमगादड़ों को भगाने के लिये किसी ने गोली चलाई। हालांकि कंगना पुलिस के इस तर्क से थोड़ा भी इत्तेफाक नहीं रखती हैं। उन्होंने कहा- ऐसा सिर्फ मुझे डराने के लिये किया गया, क्योंकि मैंने एक दो दिनों में कुछ पॉलिटकल बयान दिये हैं और मेरी ट्विटर टीम ने सुशांत केस में इस तरह की कई टिप्पणियां की। गोलियों की आवाज सुनने के बाद कंगना ने अपने गार्ड को चेक करने को कहा। पर कुछ भी पक्का नहीं हो पाया।
कंगना ने कहा- मैंने गोली की आवाज सुनी और मुझे लगता है वह पक्का गोली की ही आवाज थी। बिलकुल मेरे कमरे के अपोजिट करीब 8 सेकंड के गैप में दो बार फायरिंग हुई। मुझे लगता है कि मेरे घर की बाउंड्री के पीछे से किसी ने फायरिंग की। कंगना की शिकायत के बाद उनके घर के बाहर सुरक्षा के बंदोबस्त किये गये हैं। पुलिस की एक टीम की तैनाती की गई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कंगना ने कहा- मैं अपने बेडरूम में थी। लगभग 11:30 बजे का वक्त रहा होगा। बाउंड्री वॉल के पीछे सेब का बगीचा और वाटर बॉडी है। सबसे पहले 11:30 बजे के आसपास मुझे पटाखे जैसी आवाज सुनाई दी। मैंने सोचा हो सकता है पटाखा ही हो। उसके बाद दूसरा शॉट हुआ। मैं सतर्क हो गई, क्योंकि यह गोली चलने जैसी आवाज थी।
फिलहाल यहां मनाली में कोई टूरिज्म सीजन नहीं है। अभी यहां कोई पटाखे नहीं चलायेगा। इसलिए, मैंने सिक्युरिटी इंचार्ज को फोन किया और पूछा क्या हुआ? उसने कहा हो सकता है कि वहां कुछ बच्चे या कुछ और हो। हमें जाकर देखना होगा कि पटाखा चला था या किसी और चीज की आवाज थी। हम घर में पांच लोग हैं और सभी ने वह आवाज सुनी थी। सभी को लगा कि वह गोली की आवाज थी। यह पटाखे जैसी आवाज नहीं थी। इसलिए हमने पुलिस को बुलाया।

कंगना ने कहा- मुझे लगता है कि यहां के किसी लोकल को मेरे घर के पास भेजा हो। इतना भी मुश्किल नहीं है किसी को 7-8 जार रुपए देकर ये काम करवा लेना। लोग मुझे कह रहे हैं कि वो लोग मुंबई में मेरी लाइफ खराब कर देंगे। लेकिन मुझे लगता है वो तो यहां भी वही कर रहे हैं। सुशांत को भी ऐसे डराया गया होगा, लेकिन मैं अब भी सवाल करूंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + = nineteen