NGOs की विदेशी फंडिंग पर बड़ी लगाम, 2016-17 में 36.5% घटी फंडिंग

NGOs की विदेशी फंडिंग पर बड़ी लगाम, 2016-17 में 36.5% घटी फंडिंग

By: Aryan Paul
December 23, 12:12
0
New Delhi: मोदी सरकार की कड़ी सख्ती के बाद NGOs की विदेशी फंडिंग में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। 2016-17 में यह आंकड़ा घटकर 36.5% हो गया है।

गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू के मुताबिक, 2015-16 में एनजीओ को 17,773 करोड़ रुपये का विदेशी फंड मिला था जो 2016-17 में घटकर 36.5% यानि कि 6,499 करोड़ रुपये रह गया। रिजिजू के मुताबिक, 2014-15 में यह आंकड़ा 15,299 करोड़ का था।

रिजिजू

गृह राज्य मंत्री ने राज्यसभा में बताया कि 2011 से 2017 के बीच गृह मंत्रालय ने फॉरन कॉन्ट्रिब्युशन (रेग्युलेशन) ऐक्ट के तहत कानून का उल्लंघन करने वाले 18,868 एनजीओ के रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिए। उन्होंने बताया कि 2011 से 2014 के बीच UPA की सरकार थी, जबकि मई 2014 से बीजेपी की अगुवाई वाली सरकार है।

रणबीर कपूर के साथ अनुष्का ने की बेवफाई, कहा- मैं तो मेहंदी तक लगा बैठा था,पर बुलाया ही नहीं

dollar

हालांकि, रिजिजू ने उन एनजीओ के नाम नहीं बताए जिनके रजिस्ट्रेशन 2017 में कैंसल किए गए। अभी 10,000 FCRA रजिस्टर्ड एनजीओ ऑपरेशन में हैं, लेकिन केंद्र सरकार ने उन्हीं एनजीओ पर कार्रवाई की है जिन्होंने नियमों का उल्लंघन किया।

नए साल में किसानों को मोदी तोहफा, अब सीधे किसानों के खाते में जमा होगी खाद सब्सिडी 

green piece

नियमों के मुताबिक, FCRA के तहत लाइसेंस प्राप्त करने वाले एनजीओ को हर साल विदेशों से प्राप्त चंदों और खर्च का रिटर्न देना पड़ता है। लगातार कहने के बावजूद 2010-11 से 2014-15 तक के अनुअल रिटर्न नहीं फाइल करने पर हाल ही में 4,842 एनजीओ और इंदिरा गांधी नेशनल ऑपन यूनिवर्सिटी, गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज के लाइसेंस कैंसल कर दिए गए। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।