2018 को लेकर गूगल कर रहा बड़े बदलाव, APPS के आएंगे ये वर्जन

2018 को लेकर गूगल कर रहा बड़े बदलाव, APPS के आएंगे ये वर्जन

By: Aryan Paul
December 21, 08:12
0
New Delhi: GOOGLE ने सभी एप्प डिेवेलपर्स को नोटिस देना शुरू कर दिया है कि 2019 से एप्प का 64 बिट वर्जन तैयार करें। साथ ही बता दें कि 2018 के सेकंड हाफ से गूगल प्ले नए एप्स और एप्प अपडेट्स को ऐंड्रॉयड एपीआई लेवल के मुताबिक करेगा। 

google

2019 की तैयारियों को लेकर गूगल ने सभी एप्प डिवेलपर्स को एक नोटिस देना शुरू कर दिया है कि 2019 से गूगल प्ले पर एप्स का 64-बिट का वर्जन तैयार करें। आपको बता दें कि ऐंड्रॉयड 5.0 लॉलीपॉप ऑपरेटिंग सिस्टम के लॉन्च होने के बाद ऐंड्रॉयड 64 बिट की एप्स को सपॉर्ट करने लगा था, लेकिन अभी तक यह जरूरी नहीं था कि डिवेलपर अपने 32-बिट के वर्जन वाले एप्स का 64-बिट का वर्जन तैयार करें। 

प्ले स्टोर

गूगल डिवेलपर्स ब्लॉग पर ऐंड्रॉयड के प्रॉडक्ट मैनेजर एडवर्ड कनिनगम ने ऐप्स को और सुरक्षित और बेहतर बनाने के लिए तीन पॉइंट बताए हैं। पहले पॉइंट में उन्होंने लिखा है कि 2018 के सेकेंड हाफ से गूगल प्ले को नए ऐप्स और ऐप अपडेट्स हालिया ऐंड्रॉयड एपीआई लेवल के मुताबिक की आवश्यकता होगी।

apps

यहां डेली रोमांस करने आते हैं नाग-नागिन, देखने वाले चकरा जाते हैं

नए एप्स के लिए यह गाइड लाइन्स अगस्त 2018 से लागू होंगी, साथ ही बता दें कि अभी जो एप्स हैं, उनके लिए यह समय सीमा नवंबर 2018 होगी। इसके जरिए एप्स की सिक्यॉरिटी और परफॉर्मेंस सुनिश्चिक की जा सकेगी। 

गूगल प्ले

देश की लड़कियों में फैल रही ये बीमारी, जिसके चलते नहीं हो पाती शादी

एप्स के 64-बिट वर्जन के लिए के लिए बताया गया है कि अगस्त 2019 में गूगल प्ले को नए ऐप्स और ऐप अपडेट की जरूरत होगी। इसका मतलब यह है कि डिवेलपर्स अपना 32-बिट वाला वर्जन भी रख सकते हैं लेकिन उन्हें 64-बिट वाला वर्जन भी रखना होगा। गूगल प्ले ऐप को ऑथराइज करने के लिए हर ऐंड्रॉयड पैकेज किट के साथ कुछ सिक्यॉरिटी मेटाडेटा भेजेगा। यह 2018 की शुरुआत में शुरू होगा और इसके लिए डिवेलपर्स को कुछ नहीं करना होगा। 

गूगल प्ले

एप्पल के iOS11 में 32-बिट के एप्प को सपॉर्ट बंद करने के बाद गूगल ने यह घोषणा की है। एप्पल ने फरवरी 2015 में ही iOS एप्प के लिए 64-बिट के कोड मांगने शुरू कर दिए थे। गूगल अपने ऐंड्रॉयड यूजर्स के लिए गूगल प्ले को बेहतर बनाना चाहता है। अगस्त से परफॉर्मेंस के आधार पर गूगल प्ले पर रैंकिंग की शुरूआत भी की गई थी। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।