ब्रिटेन के इतिहास में महारानी एलिजाबेथ के बाद पहली बार सबसे ताकतवर पद पर आसीन हुई एक महिला

ब्रिटेन के इतिहास में महारानी एलिजाबेथ के बाद पहली बार सबसे ताकतवर पद पर आसीन हुई एक महिला

By: Aryan Paul
July 29, 09:07
0
New Delhi: ब्रिटेन में एक महिला सुप्रीम कोर्ट के जजों की बेंच की अध्यक्ष बनी

रिचमंड की बैरनेस हेने ब्रिटेन सुप्रीम कोर्ट की जज बन गई है जो यूनाइटेड किंगडम के सुप्रीम कोर्ट के जजों की अध्यक्षता करेंगी । ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ ने शुक्रवार को बैरनेस हेले को मंजूरी दे दी, और सितंबर में अभी इस पद को संभाल रहे जज के रिटायर होने पर वे कार्यभार सभालेंगी, इस पद को संभालने के लिए बैरनेस हेले को सालाना 225,000 पाउंड की भारी-भरकम राशि भी मिलेगी ।

द इंडिपेंडेंट को दिए अपने इंटरव्यू में बैरनेस हेले ने कहा- यह एक महान सम्मान और एक चुनौती है जिसे लॉर्ड लॉबेरर को सफल करने के लिए नियुक्त किया जाता है । जब मैं अपने सभी सहयोगियों के साथ मिलकर काम करने की उम्मीद करती हूं, तो मुझे एक ही समय में यह पद लेने के लिए एक विशेष खुशी है क्योंकि हम ब्रिटेन की शीर्ष अपील अदालत में बैठने के लिए केवल दूसरी महिला का स्वागत करते हैं

सुप्रीम कोर्ट की उप-अध्यक्ष के रूप में उन्होंने कई बड़े मामलों पर फैसला सुनाया, जिसमें ब्रेक्जिट अपील भी शामिल थी, जिसे सरकार ने अनुच्छेद 50 पर संसदीय वोट करने के लिए मजबूर किया था । लेडी हैले ने 2009 में सुप्रीम कोर्ट में पहली महिला जज के रूप में काम करने की अपील की ।

बैरनेस हेले के माता-पिता दोनों प्रमुख शिक्षक थे, और बैरनेस हेले ने कैंब्रिज के गिरटन कॉलेज में पढ़ाई से पहले रिचमंड कॉलेज से हाई स्कूल किया । शुरू में उन्होंने अपने माता-पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए टीचिंग को पेशा बनाया, और मेनचेस्टर की लॉ यूनिवर्सिटी में लॉ लेक्चरर बन गई। लेकिन 1969 के बार फाइनल की लिस्ट में टॉप करने के बाद उन्हें बार एसोसिएशन में बुलाया गया

वह कानून आयोग और ब्रिटेन के कानून सुधार निकाय के लिए नियुक्त होने वाली पहली महिला और सबसे कम उम्र की युवा थी । 2004 में वह सुप्रीम कोर्ट में बैठने वाली पहली महिला बनी, और पद भरने के लिए पहली परिवारिक वकील बन गईं ।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।