कालेधन पर मोदी सरकार को बड़़ी सफलता, 1 जनवरी से स्विट्जरलैंड जानकारी देना शुरू करेगा

कालेधन पर मोदी सरकार को बड़़ी सफलता, 1 जनवरी से स्विट्जरलैंड जानकारी देना शुरू करेगा

By: Aryan Paul
December 22, 08:12
0
New Delhi: कालेधन को लेकर मोदी सरकार शुरू से ही बडे़-बड़े दावे करती आई है। हालांकि कुछ मामलों में सरकार को सफलता मिली भी है, लेकिन अब बड़ी सफलता मिलेगी, क्योंकि स्विट्जरलैंड 1 जनवरी से कालेधन को लेकर सूचनाएं देने को अब तैयार हो गया है।

बता दें कि विदेशों में जमा काले धन का पता लगाने के लिए सरकार ने स्विट्जरलैंड के साथ एक करार किया है। CBDT के मुताबिक, इस करार से एक जनवरी से दोनों देशों के बीच कर संबंधी सूचनाओं का आदान-प्रदान हो सकेगा।

आयकर भवन

CBDT के मुताबिक स्विट्जरलैंड में संसदीय प्रक्रिया पूरी होने के साथ और आपसी सहमति के करार पर दस्तखत के बाद भारत और स्विट्जरलैंड 1 जनवरी, 2018 से टैक्स से जुड़ी जानकारियां आपस में शेयर करना सकेंगे।

बड़ा फर्जीवाड़ा: 11 साल पुरानी पटवारी भर्ती परीक्षा रद्द, 77 कर्मचारी होंगे सस्पेंड

IT

आयकर विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, मामले को लेकर केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के चेयरमैन सुशील चंद्रा और स्विट्जरलैंड के राजदूत एंड्रेयास बाउम ने एक दस्तावेज पर साइन किए हैं। दोनों पक्षों के बीच सूचनाओं के खुद से आदान-प्रदान के क्रियान्वयन के लिए पिछले महीने संयुक्त घोषणा पर दस्तखत किए गए थे। 

एयर इंडिया के फैसले पर विवाद शुरू, कम हो गए हैं पायलट, कोहरे में विमान उड़ाने में दिक्कत

BLACK MONEY

जिसमें यह कहा गया था कि दोनों देश 2018 से वैश्विक मानदंडों के हिसाब से आंकड़ों का इकट्ठा करना शुरू करेंगे और 2019 से इनका आदान-प्रदान किया जाएगा। घोषणा पर दस्तखत के साथ स्विट्जरलैंड ने सूचनाओं के खुद से शेयर करने को लेकर वैश्विक मानदंडों को पूरा कर लिया है। साथ ही भारत ने भी अपनी ओर से आंकड़ों की गोपनीयता का वादा किया है। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।