प्रद्युम्न की हत्या के बाद सरकार ने उठाया बड़ा कदम, अब स्कूलों में कर्मचारियों का होगा psychometric टेस्ट

प्रद्युम्न की हत्या के बाद सरकार ने उठाया बड़ा कदम, अब स्कूलों में कर्मचारियों का होगा psychometric टेस्ट

By: Shalu Sneha
September 14, 10:09
0
.

New Delhi: गुरूग्राम में रयान इंटरनेशनल स्कूल में एक बच्चे की हत्या के पांच दिन बाद सीबीएसई ने अब अपनी चुप्पी तोड़ी है। सीबीएसई ने बुधवार को ये घोषणा की है कि स्कूल परिसर में छात्रों की सुरक्षा स्कूल अधिकारियों के साथ पूरी तरह जुड़ा हुआ है। बता दें कि सीबीएसई ने गुरूग्राम स्कूल की हत्या के बाद सर्वोच्च न्यायालय के एक प्रश्न के जवाब में यह कहा था। बुधवार को बोर्ड ने अपने संबंधित स्कूलों में 'बच्चों की सुरक्षा' पर एक सर्कुलर भेजा है। जिसमें दो महीने के अंदर सभी कर्मचारियों के मनोचिकित्सा यानि psychometric मूल्यांकन करने का आदेश दिया गया है। इसमें शिक्षक, गैर-शिक्षण कर्मचारी, सफाई कर्मचारी, बस चालकों और कंडक्टर शामिल होंगे, सभी का मनोचिकित्सा मूल्यांकन किया किया जाएगा।

बता दें कि "सर्कुलर में कहा गया है," स्कूल के बच्चों की सुरक्षा और कल्याण से जुड़ी घटनाओं के कारण, परिसर में बच्चों की सुरक्षा के लिए स्कूल के अधिकारियों की जिम्मेदारी होगी। उनका कहना है कि" यह एक बच्चे का मौलिक अधिकार है एक ऐसे वातावरण में पढ़ाई करें जहां वह सुरक्षित महसूस करता है, और किसी भी प्रकार के शारीरिक या मानसिक उत्पीड़न से मुक्त हो। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या स्कूलों के लिए मुश्किल साबित हो सकता है अनिवार्य psychometric मूल्यांकन?

वहीं उप सचिव जयप्रकाश चतुर्वेदी ने कहा है कि छात्रों की सुरक्षा के लिए बनें कानून पर शिक्षकों और कर्मचारियों के बीच बेहतर समझ को बढ़ावा देने के लिए स्कूलों से कहा है। इन नियमों में सबसे ज्यादा ये जरुरी है कि इसके उल्लंघन के लिए सख्त और दंडनीय साधन तैयार करने की आवश्यकता है। साथ ही ये भी कहा है कि बच्चों को ऐसी क्रिया की रोकथाम के लिए शिक्षित किया जाए, जिससे बच्चा अपने साथ होने वाली गलत चीजों की पहचान कर सकें। साथ ही सर्कुलर  में ये भी कहा गया है कि कर्मचारियों के सदस्यों को भी शिक्षित किया जाना चाहिए ताकि वे अपने छात्रों के प्रति सुरक्षा का दायित्व पहचान सकें। और स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा और भलाई सुनिश्चित कर सकें। 

 वहीं मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कहा है कि सभी निर्देशों का पालन अच्छी तरह से होना चाहिए। इसके अलावा, स्कूल के अधिकारी स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए तुरंत सख्त कदम उठा सकते हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments