कॉफी विद NCB- फैन्सी पार्टी को ले एनसीबी ने करन जौहर से कहा- खुद ही बता दो, क्या-क्या किया था ?

New Delhi : मूवी माफिया के खिलाफ चल रही मुहिम अब अपने शबाब पर है। शिरोमणि अकाली दल के नेता और पूर्व विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा की शिकायत के बाद एनसीबी ने करन जौहर पार्टी की जांच शुरू कर दी है। एनसीबी मुख्यालय ने इस मामले को मुम्बई में सुशांत प्रकरण और रिया चक्रवर्ती मामले की जांच कर रही एनसीबी की स्पेशल टीम के सुपुर्द कर दिया है। इसके बाद एनसीबी ने फिल्म प्रोड‍्यूसर करन जौहर से एक पन्ने का नोटिस जारी कर वायरल वीडियो वाली पार्टी के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी है। कहा है- खुद ही सारी जानकारी दे दो, तो अच्छा रहेगा।

एनसीबी से जुड़े सूत्र बता रहे हैं कि इस फैन्सी पार्टी के वायरल वीडियो के हिसाब से बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण, मलाइका अरोड़ा, एक्टर अर्जुन कपूर, शाहिद कपूर, वरुण धवन, विक्की कौशल, रणवीर कपूर, प्रोड‍्यूसर डायरेक्टर जोया अख्तर, अयान मुखर्जी को अलग-अलग नोटिस जारी किया जायेगा। करन जौहर से पूछे गये नोटिस का जवाब आने के बाद यह तय किया जायेगा कि आगे क्या कार्रवाई की जाये। इस पार्टी के वीडियो में सारे हीरो हीरोइन मस्ती में चूर हैं। किसी अपनी सुध नहीं है। आंख, नाक और मुंह लाल हैं। करन जौहर सबका वीडियो बना रहे हैं।
वीडियो बनाने के बाद करन जौहर ने यह वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। यह वायरल हो गया। लोग चौंक गये थे। इसके बाद शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस पार्टी की जांच करने की मांग मुम्बई पुलिस से की। पिछले साल ही सिरसा ने मुम्बई पुलिस से ये डिमांड की। इसके बाद कई बार रिमांइडर भी डाला। पर मुम्बई पुलिस हरकत में नहीं आई। अब सुशांत प्रकरण में रिया गैंग के सामने आने के बाद सिरसा के इस डिमांड पर एनसीबी ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है।
सिरसा ने कहा- ये वे ही लोग हैं जिन्होंने पंजाब और पंजाबियों को बदनाम करने के लिये उड़ता पंजाब बनाई और इस पार्टी के वायरल वीडियो से यह तो साफ हो गया कि पंजाब नहीं उड़ रहा था। उड़ता बॉलीवुड था लेकिन षडयंत्र के तहत पंजाब बदनाम किया गया। अब इस षडयंत्र में शामिल सभी अभिनेता, प्रोड‍्यूसर, नेता बदनाम होंगे।

ऐसा लग रहा है कि इस फैन्सी पार्टी को लेकर सभी मौजूद लोगों से पूछताछ होगी। इस पार्टी के आर्गेनाइजर करन जौहर थे इसलिये ऐसी आशंका ज्यादा है कि उन्हे गिरोह के सरगना के तौर पर ट्रीट करते हुये उनके साथ सख्ती की जा सकती है। वे सीधे सीधे इस तरह की पार्टी आर्गेनाइज करने के आरोप में फंस सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirty three − = twenty seven