लद्दाख के पास चीन ने तैनात किये फाइटर जेट, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा- युद्ध के लिये तैयार रहो

New Delhi : अमेरिका और भारत से तनाव के बीच चीन ने न केवल अपने सैनिकों को बड़ी संख्या में सीमा के पास तैनात कर दिया है बल्कि ऊचाईं वाले इलाके में उड़ान भरने के अनुकूल लड़ाकू विमान जे-11 और जे 16एस को भी ऑपरेट करना शुरू कर दिया है। इन तस्वीरों को ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनॉलिस्ट Detresfa ने जारी किया है। इधर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मंगलवार को देश के सुरक्षाबलों को निर्देश दिया कि वे सैनिकों की ट्रेनिंग को मजबूत करें और युद्ध के लिये तैयार रहें।

चीन की सरकारी मीडिया ने उनके हवाले से कहा- राष्ट्रीय संप्रभुता की पूरी तरह से रक्षा और देश की समग्र सामरिक स्थिरता की रक्षा करने के लिये सैनिकों के प्रशिक्षण को व्यापक रूप से मजबूत करना और युद्ध के लिये तैयार करना महत्वपूर्ण था।
ताजा सैटेलाइट तस्वीरों से खुलासा हुआ है कि चीन ने नगरीगुन्सा एयरबेस पर लड़ाकू विमानों के परिचालन को तेज कर दिया है। इतना ही नहीं, हाल के दिनों में यहां कई ट्रांसपोर्ट विमानों की लैंडिंग भी हुई है। भारत से लगी सीमा पर अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए चीन आवश्यक सैन्य साजोसामान को पहुंचा रहा है।

 

फिलहाल अमेरिका के साथ चीन का तनाव चरम पर होने के बीच स्थानीय राजनेताओं और राजनयिकों की तरफ से बलपूर्वक ताइवान को मिलाने जैसी बातें कही जा रही हैं। इधर भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सारे मामले को अपने हाथ में ले लिया है। उन्होंने हाईलेवल मीटिंग की। इसमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुख शामिल हुये। इसके बाद मोदी ने विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला से भी चर्चा की। इससे पहले लद्दाख में तनाव पर रक्षा मंत्री की सीडीएस और तीनों सेनाओं के प्रमुखों से करीब एक घंटे मीटिंग हुई। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से कहा कि दोनों बैठकों में मोदी और राजनाथ को चीन की हरकतों पर भारतीय सेना के जवाब की जानकारी दी गई। मीटिंग में दो अहम फैसले लिये गये। पहला- इस क्षेत्र में सड़क निर्माण जारी रहेगा। दूसरा- भारतीय सैनिकों की तैनाती उतनी ही रहेगी जितनी चीन की है।

 

इस दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर चर्चा की गई। इधर खबर है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत और चीन में बढ़े तनाव के बीच सीमा के पास चीन ने अलग-अलग स्थानों पर 5000 सैनिकों को तैनात कर दिया है। भारत भी इसी अनुपात में यहां अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है। भारत दूसरे इलाकों में भी सैनिकों की मौजूदगी बढ़ा रहा है, ताकि चीनी सेना वहां से अतिक्रमण ना कर सके।
दौलतबेग ओल्डी और इससे जुड़े इलाकों में भारतीय सेना की 81 और 114 ब्रिगेड चीनी सैनिकों को रोकने के लिए तैनात है। वायुसेना की मदद से यहां सैनिकों को हेलिकॉप्टरों के जरिए पहुंचाया जा रहा है। भारतीय सेना के सूत्रों ने कहा कि चीनी सैनिक और भारी गाड़ियां लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के दोनों तरफ पैंगोंग त्सो झील और फिंगर एरिया में भारतीय क्षेत्र तक आ चुकी हैं।

 

भारतीय सैनिकों की तैनाती बढ़ाने की वजह ये है कि लद्दाख में एलएसी के साथ क्षेत्रीय स्तर की वार्ता का कोई हल नहीं निकला है। ऐसे में भारतीय सेना ने एलएसी के पास चीनी सैनिकों की तैनाती की खबरों के बीच उत्तराखंड में अपने सैनिकों की संख्या भी बढ़ाई है।
वेस्टर्न सेक्टर के हिस्से पूर्वी लद्दाख में भी अतिरिक्त सैनिकों को शामिल किया गया है। 24 घंटे निगरानी बढ़ा दी गई है। गुल्डॉन्ग सेक्टर में चीनी सैनिकों की संख्या में इजाफे के बाद मिडिल सेक्टर के हिस्से उत्तराखंड में एलएसी के आस-पास पिछले कुछ दिनों में सैनिक बढ़ाये गये हैं।

 

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक हमने हर्सिल में भी सेना को मज़बूत किया है क्योंकि रिपोर्ट्स थीं की चीन की तरफ से एलएसी की दूसरी तरफ के सेक्टर में सैनिकों की हलचल बढ़ी है। पूर्वी लद्दाख में सर्विलांस को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त टुकड़ियां शामिल की गई हैं, साथ ही 24 घंटे सर्विलांस हो रहा है। फिजिकल पेट्रोलिंग बहुत मुश्किल होती है और इसके लिए ज्यादा वक्त भी चाहिये और सैनिक भी, लेकिन UAVs से एलएसी के नजदीक किसी भी गतिविधि होने की स्थिति में हमें खबर मिलती रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ninety seven − 88 =