काम आई नोटबंदी:5800 संदिग्ध खातों की सरकार को मिली जानकारी, नोटबंदी के वक्त की थी खूब घपलेबाजी

काम आई नोटबंदी:5800 संदिग्ध खातों की सरकार को मिली जानकारी, नोटबंदी के वक्त की थी खूब घपलेबाजी

By: Rohit Solanki
October 06, 15:10
0
....

New Delhi:  नोटबंदी के दौरान कालेधन को सफेद बनाने की कोशिश करने वालों पर जल्द शिकंजा कसने वाला है। कालेधन को वापस लाने की मुहिम के तहत देश के 13 बैंकों ने कई संदिग्ध लेन-देन की जानकारी सरकार को दी है। दरअसल, ये खाते फर्जी कंपनियों से जुड़े हैं, जो कालेधन को सफेद करने की कोशिश करती थी। सरकार पहले ही ऐसी 2 लाख से ज्यादा कंपनियों पर ताला जड़ चुकी है।

बैंकों की ओर से 5800 फर्जी कंपनियों की लेन-देन की डिटेल्स जारी की गई हैं। ये कंपनियां मनी लॉन्ड्रिंग और कालेधन को सफेद करने की गतिविधियों में शामिल थी। खुलासे में पता लगा है कि कई कंपनियों के 100-100 खाते थे। कुल 2,09,032 कंपनियों पर संदिग्ध गतिविधि की जानकारी के बाद रोक लगा दी गई है। इनमें से एक कंपनी के लगभग 2134 खाते थे। नोटबंदी के बाद इन फर्जी कंपनियों ने करीब 4573.87 करोड़ रुपए की लेन-देन की थी।

 गौरतलब है कि मोदी सरकार ने हाल ही में फर्जी कंपनियों पर लगातार श‍िकंजा कसना शुरू कर दिया है। इससे पहले सरकार ने कहा था कि वह शेल कंपनियों से संबंध रखने वाले 4.5 लाख डायरेक्टर्स को अयोग्य करार दे सकती है। केंद्रीय मंत्री पीपी चौधरी ने कहा है कि कालेधन के ख‍िलाफ सरकार की लड़ाई जारी रहेगी।

कॉरपोरेट मामलों के मंत्री पीपी चौधरी ने कहा कि सही तरह से काम कर रही कंपनियों को इस प्रक्रिया से कोई परेशानी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि जो कंपनियां नियमों के खिलाफ काम कर रही हैं, उनकी वजह से ही अन्य कंपनियों को परेशानी पेश आ रही है। चौधरी ने एक इंटरव्यू में कहा कि सभी अयोग्य करार दिए गए डायरेक्टर्स की प्रोफाइल की जांच की जाएगी। केंद्र सरकार इससे पहले सितंबर महीने में 2.17 लाख से भी ज्यादा कंपनियों के नाम रिकॉर्ड से हटा चुकी है। यह वे कंपनियां थीं, जो पिछले काफी समय से कारोबार नहीं कर रही थीं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।