‘थ्री इडियट्स’ के असली ‘फुंसुक वांगडु’ को पड़ी 14 करोड़ रुपये की जरूरत, मांग रहे हैं मदद

‘थ्री इडियट्स’ के असली ‘फुंसुक वांगडु’ को पड़ी 14 करोड़ रुपये की जरूरत, मांग रहे हैं मदद

By: Shalu Sneha
January 11, 08:01
0
New Delhi: फिल्म 3 Idiots के ‘फुंसुक वांगडु’ आपको याद होंगे। जिनका रोल एक्टर आमिर खान ने निभाया था। असल जीवन के सोनम वांगचुक हैं।

वांगचुक को देश के दुर्गम लद्दाख क्षेत्र में एक विश्वविद्यालय में पाठ्यक्रम चलाने के लिए 14 करोड़ रुपये की जरुरत है। उनका यह विश्वविद्यालय कौशल आधारित प्रशिक्षण देगा। 

 फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ में आमिर खान के किरदार ‘फुंसुक वांगडु’ की प्रेरणा रहे

बता दें कि वैसे तो इस विश्वविद्यालय की पूरी लागत करीब 800 करोड़ रुपये है। लेकिन इसमें पाठ्यक्रम संचालन के लिए उन्हें 14 करोड़ रुपये चाहिए। इसमें से सात करोड़ रुपये की राशि कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) और सात करोड़ रुपये क्राउड फंडिंग से जुटाने का लक्ष्य रखा गया है।  क्राउड फंडिंग से अब तक वांगचुक 4.6 करोड़ रुपये जुटा चुके हैं।

ये हैं मोहब्बतें की सीधी, संस्कारी रौशनी का बोल्ड अवतार हो रहा है वायरल, देखें तस्वीरें
 

उनका यह विश्वविद्यालय कौशल आधारित प्रशिक्षण मुहैया कराएगा

इससे पहले टीवी के चर्चित शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में भी वांगचुक ने सिने अभिनेता अमिताभ बच्चन के सामने इसका जिक्र किया था। वांगचुक ने इसके लिए पिछले साल क्राउड फंडिंग से राशि जुटानी शुरू की थी। उन्होंने कहा, पहले चरण में हम मार्च-अप्रैल 2018 में एकीकृत पर्वतीय विकास पाठ्यक्रम (इंटीग्रेटेड माउंटेन डेवलपमेंट कोर्स) शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं। इसके लिए हमें 14 करोड़ की आवश्यकता है। 

बेरोजगार पति ने इंजीनियर पत्नी की धारदार हथियार से कर दी हत्या,फिर किए सिर के दो टुकड़े 

वांगचुक बहुत पहले लद्दाख में शिक्षा सुधार और स्थानीय बच्चों को इंटरमीडिएट तक की परीक्षा में सफल कराने के लिए 'सेकमोल' की स्थापना कर चुके हैं

वांगचुक बहुत पहले लद्दाख में शिक्षा सुधार और स्थानीय बच्चों को इंटरमीडिएट तक की परीक्षा में सफल कराने के लिए 'सेकमोल' की स्थापना कर चुके हैं और अब वह कुछ ऐसा करना चाहते हैं जो क्षेत्र के बच्चों की अधिक मदद करेगा और उन्हें बेहतर वेतन दिलाने में सहायता करेगा। वांगचुक ने कहा कि उनकी योजना लद्दाख क्षेत्र की फयांग घाटी में 200 एकड़ से ज्यादा भूमि पर यह कौशल आधारित विश्वविद्यालय स्थापित करने की है। इसका नाम उन्होंने हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव्स लद्दाख रखा है।   

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।