बॉलीवुड सेलेब्स ने की PM मोदी की तारीफ, बोले- जब मोदी जी बोलते हैं तो विश्व ध्यान से सुनता है

New Delhi : बॉलीवुड सेलेब्स भी PM Narendra Modi की 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की तारीफ कर रहे हैं। बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर, शाहिद कपूर, अर्जुन रामपाल समेत देश के कई सेलेब्स ने ट्वीट कर पीएम की स्पीच तारीफ की है। अनुपम खेर ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए पीएम मोदी के लिए लिखा – जब भारत के प्रधानमंत्री @narendramodi बोलते हैं तो न केवल देश बल्कि पूरा विश्व सुनता है और प्रेरणा लेता है। 130 करोड़ भारतीय आत्मनिर्भरता की कुंजी लेकर चलेंगे तो क़ामयाबी यक़ीनन हमारे क़दम चूमेगी।वैसे 20,00,000 करोड़ ऐसे दिखते हैं- 20000000000000! गणित ठीक है ना? शायद! #जयहो!

इधर कोरोना आपदा और लॉकडाउन के कारण कुंद अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के लिये PM Narendra Modi द्वारा मंगलवार को 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सराहना की और कहा – PM Modi द्वारा लघु उद्योगों, कुटीर उद्योग तथा ग्रामीण उद्योगों को दिया गया यह समर्थन उद्योग कभी नहीं भूलेगा।
उन्होंने वीडियो संदेश जारी कर प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा – इन उद्योगों में काम करने वाले 11 करोड़ से अधिक कामगारों को राहत मिलेगी। हम इस संकट से बाहर निकलेंगे, सुपर इकनॉमिक पावर बनेंगे और विकास के पथ पर अग्रसर होंगे।

उद्योग जगत ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 20 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा समय की जरूरत थी। उद्योग मंडलों का कहना है कि इससे कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिए लागू पाबंदियों से प्रभावित अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार में मदद मिलेगी। आर्थिक वृद्धि को नई गति मिलेगी। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को 20 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज की घोषणा की, जो देश की जीडीपी का 10 प्रतिशत है।

आनंद महिंद्रा ने ट्वीट किया – पीएम का कार्पे डियम (सीज द डे) भाषण यह था, जीने के प्रयास के नजरिये को अवसर में बदलते हुए उसे ताकत का रूप दे दिया जाये। हमें कल पता चलेगा कि यह परिवर्तन 1991 की तर्ज पर होगा या नहीं। मुझे ऐसा लगता है कि आज रात अच्छे से नींद नहीं आयेगी।

उद्योग मंडल सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा – प्रधानमंत्री ने जमीन, श्रम, नकदी और कानून को सरल बनाने के बारे में बात की, हम उसकी सराहना करते हैं। ये अर्थव्यवस्था के लिए प्रमुख चुनौती है। इन चार क्षेत्रों में सुधारों से संकट की इस घड़ी में आर्थिक वृद्धि को नई गति मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

84 + = ninety four