भाजपा नेता बोले- हमने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की तिथि बताकर विपक्ष की बोलती बंद कर दी

New Delhi : भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि श्रीराम मंदिर निर्माण की घोषणा के साथ ही हमने विपक्षियों को करारा जवाब दे दिया है। हमने बता दिया है कि हम सिर्फ बोलते नहीं हैं बल्कि कर के दिखाते हैं। श्रीराम मंदिर निर्माण की तारीख तय हो गई है और पूरा देश प्रसन्न है। इधर शिवसेना के एक विधायक प्रताप सरनाइक ने श्रीराम जन्मभूमि न्यास परिषद् को पत्र लिखकर अपील की है कि मंदिर निर्माण की नींव रखने के प्रोग्राम में शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को मुख्य अतिथि बनाया जाये क्योंकि बाला साहेब ठाकरे और शिवसेना ने श्रीराम मंदिर के लिये सर्वाधिक बलिदान दिया है।

उत्तर प्रदेश भाजपा के महामंत्री विद्यासागर सोनकर ने 20 जुलाई को जौनपुर में कहा- अब हमने अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण की तिथि बताकर विपक्ष की बोलती बंद कर दी है। सोनकर ने संवाददाताओं से बातचीत में विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुये कहा- भाजपा का नारा था कि रामलला हम आयेंगे, मंदिर वहीं बनायेंगे। विपक्षी दलों ने इसे तोड़-मरोड़ कर कहा कि रामलला हम आयेंगे, मंदिर वहीं बनायेंगे, लेकिन तारीख नहीं बतायेंगे। अब भाजपा ने मंदिर निर्माण की तारीख भी घोषित कर दी है और विपक्षी दलों की बोलती बंद कर दी।
उन्होंने कहा- अयोध्या में श्रीराम मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच अगस्त को करेंगे। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि भारतीय जनता पार्टी जब पूर्ण रूप से सत्ता में आयेगी तो वह मंदिर निर्माण की आ रही बाधाओं को दूर कर लेगी। उत्तर प्रदेश और केंद्र में सत्ता होने के साथ ही अयोध्या में श्रीराम मंदिर बनाने का मार्ग प्रशस्त हुआ।
इधर महाराष्ट्र में शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक ने राम जन्मभूमि न्यास को चिट्ठी लिखकर कहा है- भूमि पूजन कार्यक्रम में उद्धव ठाकरे को चीफ गेस्ट बनाया जाये।

दूसरी तरफ शिवसेना सांसद संजय राउत ने सोमवार को दावा किया – शिवसेना ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया। रास्ते की मुख्य रुकावटों को राजनीति के लिये नहीं बल्कि आस्था और हिंदुत्व के लिये दूर किया। यह देखना होगा कि अगले महीने मंदिर निर्माण के लिये आधारशिला रखने के समारोह के लिये कितने लोगों को आमंत्रित किया जायेगा और कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप को देखते हुये सामाजिक दूरी संबंधी क्या कदम उठाये जायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ 83 = eighty seven