कोर्ट में हुई बेइज्जती के बाद भी CBI का अड़ियल रुख, बरी हुए दंपत्ति परिवार पर फिर कसेगी शिकंजा

कोर्ट में हुई बेइज्जती के बाद भी CBI का अड़ियल रुख, बरी हुए दंपत्ति परिवार पर फिर कसेगी शिकंजा

By: Sachin
October 12, 15:10
0
.

New Delhi: नोएडा के बहुचर्चित आरुषि एवं हेमराज हत्याकांड के मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने सबूतों के आभाव में तलवार दंपत्ति को बड़ी राहत देते हुए बरी कर दिया है। ऐसे में जल्द ही रुषि के माता-पिता जेल से रिहा होंगे। कोर्ट ने बेनिफिट ऑफ डाउब्ट का लाभ देते हुए दो जजों की बेंच ने ये फैसला सुनाया है।

कोर्ट के इस फैसले के बाद CBI एक बार फिर तलवार दंपत्ति को घेरने की फिराख में है। CBI ने कहा कि हम हाईकोर्ट के फैसले की कॉपी का इंतजार कर रहे हैं, जिसके बाद CBI इस केस में अपना अगला कदम उठाएगी।

आपको बता दें कि गाजियाबाद स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने 26 नवंबर, 2013 को राजेश और नुपुर को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इससे एक दिन पहले इनको दोषी ठहराया गया था। आरुषि इनकी बेटी थी। 

राजेश और नुपुर फिलहाल गाजियाबाद की डासना जेल में सजा काट रहे हैं। जस्टिस बीके नारायण और जस्टिस एके मिश्रा की खंडपीठ ने तलवार दंपति की अपील पर सात सितंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। फैसला सुनाने की तारीख 12 अक्टूबर को तय की थी। 

मई, 2008 में नोएडा के जलवायु विहार इलाके में 14 साल की आरषि का शव उसके मकान में बरामद हुआ था। शुरुआत में शक की सुई हेमराज की ओर गई, लेकिन दो दिन बाद मकान की छत से उसका भी शव बरामद किया गया। उत्तर प्रदेश की तत्काल मुख्यमंत्री मायावती ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।