हरभगजन सिंह ने 5000 लोगों को भोजन कराने का निर्णय लिया है।

भज्जी रोज 5000 गरीबों को राशन देंगे, कहा – क्रिकेट ने बहुत दिया, अब समय है कि समाज को कुछ वापस करें

New Delhi : टीम इंडिया के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह और उनकी पत्नी गीता बसरा रोज जालंधर के 5000 गरीब परिवारों को खाना खिलाएंगे। कोरोना का संकट पूरी दुनिया में फैला हुआ है जो रुकने का नाम नहीं ले रहा। ऐसे में लोगों की मदद के लिए क्रिकेटर्स आगे आ रहे हैं जिसमें अब हरभजन सिंह का भी नाम जुड़ गया है।

भज्जी ने कुछ तस्वीरें ट्वीट करते हुए लिखा – सतनाम वाहेगुरु बस हिम्मत हौसला देना। गीता बसरा और मैंने संकल्प लिया है कि हम आज से 5000 परिवारों को राशन देंगे। वाहेगुरु सबकी रक्षा करें।

भज्जी जालंधर में जरूरतमंद परिवारों में राशन भेजेंगे। उन्होंने इंस्टाग्राम पर मेसेज में लिखा – जालंधर में जो परिवार इस मुश्किल समय में अपने परिवार का पेट नहीं भर पा रहे हैं ऐसे 5000 परिवारों में हम राशन पहुंचाएंगे। हम अपने साथी नागरिकों का भार कम करने की कोशिश करेंगे। सुरक्षित रहें, भीतर रहें और सकारात्मक रहें। भगवान हम सभी पर दया करे। जय हिंद।
भज्जी ने कहा – हम 5 किलो चावल, आटा, तेल और जरूरत की चीजें बाटेंगे। मैं जालंधर से अभी भी जुड़ा हुआ हूं और मैं अपने लोगों को इस तरह परेशान होता नहीं देख सकता। क्रिकेट ने मुझे इतना कुछ दिया है तो मैं थोड़ा बहुत तो कर ही सकता हूं। मैं चाहता हूं कि जो मैं मदद करूं वो सीधे लोगों तक पहुंचे इसलिए मैं इसमें पंजाब पुलिस और अपने दोस्तों को शुक्रिया अदा करना चाहूंगा। हमने शुरूआत अच्छी की है लेकिन अभी और भी बहुत कुछ करना बाकी है।
सौरव गांगुली ने शनिवार को इस्कॉन के कोलकाता सेंटर में पहुंचकर करीब 10 हजार जरूरतमंद लोगों के खाने का इंतजाम किया है। इस बात की सूचना खुद इस्कॉन ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से दी। सौरव गांगुली लगातार कोरोना आपदा से लड़ने में लोगों की भूख मिटाने का काम कर रहे हैं। भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान ने मास्क और दस्ताने पहनकर इस्कॉन आकर मदद का वादा किया जिसे उन्होंने शनिवार को पूरा भी किया।
इस्कॉन कोलकाता के प्रवक्ता और उपाध्यक्ष राधारमन दास ने कहा – हम रोज दस हजार लोगों का खाना बना रहे थे। सौरव दा ने हमारी मदद की है और अब हम रोज 20000 लोगों को खाना दे रहे हैं। मैं दादा का बड़ा प्रशंसक हूं और क्रिकेट के मैदान पर उनकी कई पारियां देखी हैं। यहां भूखों को भोजन कराने की उनकी यह पारी सर्वश्रेष्ठ है। हम उन्हें धन्यवाद देते हैं।
इस्कॉन की ओर से किये गये इस ट्वीट पर सौरव गांगुली ने जवाब देते हुए धन्यवाद लिखा और कहा कि ऐसे ही समाज में सहयोग देते रहिये। सौरव गांगुली इससे पहले रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय बेलूर मठ में 25 साल बाद दर्शन करने पहुंचे थे और वहां पर करीब 20 हजार किलो चावल दान दिए थे। इतना ही नहीं सौरव गांगुली इससे पहले 50 लाख रुपये का चावल भी दान कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− one = five