शहीद की पत्नी ने फेसबुक पर किया पोस्ट, दुनिया बोली- हमें गर्व है

शहीद की पत्नी ने फेसबुक पर किया पोस्ट, दुनिया बोली- हमें गर्व है

By: Priya Panwar
July 06, 15:07
0
New Delhi: एक शहीद की पत्नी को पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है। शहीद की पत्नी ने फेसबुक पर जो लिखा उसके पढ़कर किसी की भी आंखों में आंसू आ जाएंगे और उस पर गर्व करेंगे।

 फेसबुक पोस्ट के अनुसार एक शहीद की पत्नी ने अपने पति की 16वीं पुण्यतिथि पर फेसबुक पर एक दिल को छू लेने वाला पोस्ट लिखा है। Beingyou नाम के फेसबुक पेज पर शहीद की पत्नी के पोस्ट को शेयर किया गया है जिसे करीब दो लाख लोग लाइक कर चुके है,24 हजार से ज्यादा लोगों ने कमेंट किया है वहीं 45 हजार लोगों ने पोस्ट को शेयर किया है। 

शहीद की विधवा का दिल को छूने वाला पोस्ट शहीद कैप्टन शफीक घोरी की पत्नी सलमा शफीक घोरी ने अपने पति की 16 वीं पुण्यतिथि पर फेसबुक पोस्ट लिखा है जो शहीदों के पत्नियों के दर्द को बयां कर रहा है। 

सलमा ने लिखा है' वो मुझे लंबे समय के लिए घर छोड़कर ड्यूटी पर चले जाते थे, फिर उन्होंने मुझे एक बार आर्मी वाले की पत्नी होने का मतलब समझाया उस जमाने में मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल नहीं होता था, हम दोनों एक दूसरे को पत्र लिखते थे, मुझे उनका रोजाना एक पत्र मिलता था। कुछ समय बाद उनकी ड्युटी हाई रिस्क एरिया में लगी। तब मैं पहले से ज्यादा मजबूत हो चुकी थी। मैं जानती थी कि कैप्टन शफीक सबसे पहले अपने देश को प्यार करते हैं फिर उनका परिवार आता है। मुझे उनका आखिरी खत तब मिला, जब मुझे पता चला कि शफीक देश की खातिर कुर्बान हो गए हैं।

28 जून 2001 को फोन पर हमारी आखिरी बार बात हुई थी'। तब समझ आया आर्मी वाले की पत्नी होने का मतलब शफीक घोरी 1 जुलाई 2001 को जम्मू कश्मीर में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हो गए थे।उस समय वह ऑपरेशन रक्षक में थे। सलमा ने अपनी पोस्ट में बताया है कि 21 जुलाई 2001 को शाम 6.30 बजे कुछ आर्मी ऑफिसर्स और उनकी पत्नियां मेरे पास पहुंची। उनमें से एक महिला ने मुझे बैठने के लिए कहा और बताया कि कैप्टन शफीक अब नहीं रहे, मुझे लगा कि मैंने गलत सुना। यह जरूर कोई गलती हुई है। एक आर्मी ऑफिसर की पत्नी ने कहा कि हम लोग सुबह से तुमसे कॉन्टेक्ट करने की कोशिश करे थे लेकिन फोन पर बात नहीं हो पाई। उसी दिन ही शफीक का आखिरी खत भी मुझे मिला था। 

कभी नहीं लगा शफीक मेरे साथ नहीं हैं' सलमा ने अपनी पोस्ट में लिखा है 'सालों बीत गए लेकिन मुझे कभी नहीं लगा शफीक मेरे साथ नहीं है वो मेरे थे और हमेशा मेरे साथ रहेंगे अब मैं माता और पिता दोनों की भूमिका निभाती हूं।

मैंने शफीक के लिए जीने की ठान ली। मैं शहीद फौजियों के परिवार के कल्याण और महिला सशक्तिकरण के लिए कर्नाटक में काम करती हूं।'

 .

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।