ये है दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला एस्ट्रोनॉट, 665 दिन अंतरिक्ष में रहकर लौटी तो सबने किया सलाम

ये है दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला एस्ट्रोनॉट, 665 दिन अंतरिक्ष में रहकर लौटी तो सबने किया सलाम

By: Rohit Solanki
November 09, 22:11
0
New Delhi: अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केन्द्र की पहली महिला कमांडर और NASA की अंतरिक्ष यात्री पेगी व्हिटसन हाल ही में अपने चालक दल के सदस्यों के साथ पृथ्वी पर सुरक्षित रूप से उतर चुकी हैं।

अंतरिक्ष से जुड़े कई रिकॉर्ड तोड़ चुकी पेगी के हौसले को आज पूरी दुनिया सलाम कर रही है। अपनी जिंदगी के 57 बसंत देख चुकी इस महिला ने साबित कर दिया है कि अगर आपके अंदर कुछ करने का जज्बा है तो उम्र कभी आड़े नहीं आएगी।

इसके संबंध में NASA ने अपने ट्विटर अकाउंट पर फोटो भी पोस्ट किए। साथ ही उन्होंने अंतरिक्ष यात्रियों की लैंडिंग से जुड़े वीडियो भी यूजर्स के साथ शेयर किए। व्हिटसन की वापसी के साथ ही उनके 288 दिन के मिशन खत्म हो गया है। यह मिशन पिछले साल नवंबर में शुरू हुआ था। इसके तहत 12.22 करोड़ मील की दूरी तय की गई और पृथ्वी के 4623 चक्कर लगाए गए। केन्द्र पर यह उनका तीसरा दीर्घकालिक मिशन था।

     अपने हालिया मिशन में व्हिटसन ने चार स्पेसवॉक कीं। इसके साथ ही उनके करियर की कुल स्पेसवॉक (अंतरिक्ष में चहलकदमी) की संख्या 10 हो गई। उन्होंने अंतरिक्ष में कुल 665 दिन बिताए हैं। व्हिटसन के नाम कई अमेरिकी रिकॉर्ड हैं। उनके चालकदल के सदस्य जैक फिशर (NASA) अप्रैल में अंतरिक्ष में गए थे। उन्होंने अंतरिक्ष में 136 दिन बिताए हैं।

इस दौरान उन्होंने अपने करियर की पहली और दूसरी स्पेसवॉक की। अंतरिक्ष अन्वेषण में सबसे उम्रदराज महिला अंतरिक्षयात्री का खिताब भी 57 वर्षीय व्हिटसन के नाम है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कि भविष्य में मेरे लिए क्या लिखा है लेकिन मैं खुद को अंतरिक्ष उड़ान संबंधी कार्यक्रमों पर काम करते हुए देखते रहना चाहती हूं।’’

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।