कुदरत का कहर: धरती पर भयंकर ठंड ने जमाया इंसानी खून, इस देश में गर्मी से पिघल रही हैं सड़कें

कुदरत का कहर: धरती पर भयंकर ठंड ने जमाया इंसानी खून, इस देश में गर्मी से पिघल रही हैं सड़कें

By: Rohit Solanki
January 08, 15:01
0
New Delhi: धरती पर इन दिनों कुदरत का अनोखा कहर देखने को मिल रहा है। जहां एक तरफ सर्दी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं, वहीं दूसरी तरफ एक ऐसा देश भी है, जहां लोग गर्मी से झुलस रहे हैं।

दरअसल, ठंड के मारे चीन, इंग्लैंड, भारत समेत कनाडा और अमेरिका में बुरा हाल है।

अमेरिका-कनाडा में ठंड ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, चलते-चलते आदमी के चेहरे पर कुछ ऐसे जम रही बर्फ

अमेरिका में बॉम्ब साइकलोन की वजह से इसका असर और ज्यादा देखने को मिल रहा है। यहां तक कि भीषण ठंड के कारण समुद्री शार्क और कछुए तक जम चुके हैं। वहीं दुनिया के दूसरे छोर की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया में रिकॉर्ड तोड़ गर्मी पड़ रही है। पारा 45 डिग्री से ऊपर जा चुका है और लोग गर्मी से बेहाल हैं।

आज से पहले नहीं देखा होगा ठंड का ऐसा कहर


मंगल ग्रह से भी ठंडा हुआ अमेरिका: अमेरिका में ठंड ने तो अति मचा दी है। हाल इतना खराब हो चुका है कि ठंड के मारे जानवर तो क्या इंसानी खून जमने लगा है। मौसम वैज्ञानिकों ने पहले ही भविष्य वाणी कर रखी है कि बॉम्ब साइकलोन की वजह से अमेरिका के कई इलाकों में तापमान मंगल ग्रह से भी नीचे जाएगा। हुआ भी ऐसा ही, कल मैसाचुसेट्स और कुछ अन्य राज्यों में ठंड का भीषण कहर देखने को मिला और यहां मंगल ग्रह के सामान्य तापमान जितनी ठंड महसूस होने लगी। पूर्वी कनाडा में तापमान -50 डिग्री सेल्सियत तक पहुंच गया है। टोरंटो एयरपोर्ट पर ठंड की वजह से कई उड़ाने रद्द करनी पड़ी हैं।

ठंड के मारे घरों से बाहर नहीं निकल रहे लोग
कड़ाके की ठंड की वजह से मशहूर नियाग्रा फॉल भी जम गया है। यहां तापमान माइनस -23 डिग्री तक गिर चुका है। मौसम विभाग के मुताबिक कुछ-कुछ साल के अंतर पर सर्दी इतनी भयानक पड़ती है। कुछ ऐसी ही ठंड फरवरी 2015 में भी पड़ी थी। दूसरी तरफ भारत में भी ठंड से बुरा हाल है। लद्दाख में बर्फ़बारी के कारण भी इलाके का संपर्क जमीनी रास्ते से बाकी देश से कटा हुआ है। यहां तापमान माइनस 20 से माइनस 30 डिग्री तक गिर गया है। कई जगहों पर तो नदियां जम चुकी हैं। कुछ जगहों पर तो बर्फ़ नदियों के ऊपर इस तरह बह रही है। कई जगहों पर पानी के पाइप फट गए हैं। पाइपों और नलों को आग लगाकर गर्म किया जा रहा है ताकि बर्फ़ पिघले और पानी आए।
 

आस्ट्रेलिया में गर्मी से जीना बेहाल: दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया में भीषण गर्मी से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। गर्मी के कारण यहां यूकेलिप्टस के पेड़ों में आग लग गई। आग पर अब तक काबू नहीं पाया जा सका है। यहां का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच चुका है।

सिडनी समेत पूरे ऑस्ट्रेलिया में गर्मी से बेहाल लोग

वहीं सिडनी में गर्मी ने 70 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। यहां तापमान 47 डिग्री छू चुका है। पेड़ों में लगी आग के साथ तापमान बढ़ने से दक्षिण पूर्वी राज्य विक्टोरिया में 10 किलोमीटर लंबे हाईवे की सड़कें पिघलने लगी हैं। । एक खबर के अनुसार- मेलबर्न के बाहरी इलाकों समेत विक्टोरिया और दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के कई राज्यों में आपातकाल घोषित किया गया है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।